यूपी में इस साल पड़ेगी कड़ाके की ठंड, आईएमडी का अलर्ट

लखनऊ. उत्तर प्रदेश में शीत लहर से सबसे अधिक मौतों होती हैं। और इस बार भी उत्तर प्रदेश में भारी ठंड पड़ने वाली है। भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने पूर्वानुमान जारी करते हुए कहाकि उत्तर प्रदेश समेत पूरे देश में वर्ष 2020 की सर्दियां बेहद ठंडी होने जा रही हैं। यूपी में यह भारी ठंड ला नीना की वजह से होगी। ला नीना की वजह से कड़ाके की ठंड और शीत लहर होती है। हर साल आइएमडी नवंबर में सर्दी को लेकर एक पूर्वानुमान जारी करता है, जिसमें बताया जाता है कि दिसंबर से फरवरी के बीच सर्दी के मौसम में कितनी अधिक ठंड पड़ने वाली है।

एक अच्छे मानसून के बाद इस साल 2020 में सर्दी के मौसम में कड़ाके की ठंड पड़ेगी। भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) के महानिदेशक मृत्युंजय महापात्रा ने बताया कि यह आम धारणा है कि जलवायु में परिवर्तन से तापमान बढ़ता है, लेकिन यह सही नहीं है। जलवायु परिवर्तन से मौसम में बदलाव होता है। महापात्रा ने बताया कि कि कमजोर ला नीना की स्थिति बनते जा रही है, इससे इस साल अत्यधिक सर्दी पड़ सकती है।

ठंड बढ़ता है ला नीना :- महानिदेशक मृत्युंजय महापात्रा ने कहाकि मौसम के रुख को तय करने में ला नीना और एल नीनो की बड़ी भूमिका होती है। ला नीना ठंडी हवाओं के अनुकूल होता है, जिसे शीत लहर भी कहते हैं। एल नीनो गर्मी से जुड़ा हुआ है। दोनों कारकों का भारतीय मॉनसून पर गहरा असर पड़ता है।

जानें ला नीना और एल नीनो :- ला नीना और एल नीनो एक समुद्री प्रक्रिया है। ला नीना में समुद्र में पानी ठंडा होता है। वैसे तो समुद्री पानी पहले से ही काफी ठंडा होता है, लेकिन इसकी वजह से ठंडक और बढ़ जाती है। जिसका असर हवाओं पर पड़ता है। जबकि, एल नीनो में इसके विपरीत होता है यानी समुद्र का पानी गरम होता है और उसके प्रभाव से गर्म हवाएं चलती हैं।



Advertisement