Meerut Rape Case: दो घंटे तक महानगर की सड़कों पर पीड़िता को लेकर कार में घूमता रहा बलात्कारी

मेरठ. वीआईपी का स्टीकर लगी कार में दो घंटे तक दुष्कर्म पीड़िता को लेकर आरोपी बेखौफ महानगर में घूमता रहा। कार में खून बिखरा पड़ा था और पीड़िता बदहवास हालत में थी, लेकिन कहीं किसी चौराहे पर किसी पुलिसकर्मी ने उसे रोकने की हिम्मत नहीं दिखााई। वीआईपी के साथ ही कार पर भाजपा का स्टीकर भी लगा हुआ था। आरोपी पुलकित सैनी ने कार के पीछे गौरक्षा सेवा समिति के महानगर अध्यक्ष भी लिखवाया हुआ था। वीआईपी स्टीकर, भाजपा का स्टीकर और गौरक्षा सेवा समिति पदाधिकारी की आड में आरोपी ने नाबालिग कराटे की खिलाड़ी 11वीं की छात्रा की अस्मत रौंद दी।

यह भी पढ़ें- यूपी के मेरठ में बीजेपी का झंडा लगी कार में छात्रा से दुष्कर्म, हालत गंभीर

जानकारी के अनुसार, पुलकित सैनी एक साल पहले तक गौरक्षा सेवा समिति में जरूर था, लेकिन एक साल से उस पर कोई पद नहीं है। उसके बाद भी अपनी कार पर गौरक्षा सेवा समिति महानगर अध्यक्ष लिखकर घूम रहा था। साथ ही कार में आगे की तरफ वीआईपी भाजपा लिखा हुआ है। इस बारे में भाजपा महानगर अध्यक्ष मुकेश सिंघल ने बताया कि पुलकित का भाजपा ने दूर-दूर तक नाता नहीं है। एसएसपी से बातकर उसके खिलाफ पार्टी को बदनाम करने की धाराओं में कार्रवाई कराएंगे।

शुक्रवार को पांच बजे पुलकित ने छात्रा को अपनी कार में बैठाया था। उसके बाद कार शंभू नगर में सात बजे यानि दो घंटे तक घूमती रही। किसी ने कार को रोककर चेकिंग करने की कोशिश तक नहीं की। क्योंकि कार के आगे शीशे पर वीआइपी भाजपा लिखा हुआ था। पीछे हिस्से पर गौरक्षा सेवा समित के महानगर अध्यक्ष लिखा हुआ था। ऐसे में पुलिस की हिम्मत कार को रोक कर चेकिंग करने की नहीं हुई।

मेरठ को सेफ सिटी बनाने की ओर उठ रहे कारगर कदमों में पुलिस की भूमिका सबसे अहम होगी। लेकिन, सेफ सिटी में अगर पुलिस ही चुस्त नहीं रहेगी तो दुष्कर्म की ये वारदातें कैसे रुकेंगी। यदि समय रहते पुलिस कार को चेकिंग कर लेती तो शायद छात्रा के साथ गलत काम होने से बच जाता। गौरक्षा सेवा समिति के राष्ट्रीय अध्यक्ष नितिन बालियान का कहना है कि पुलकित का उनकी समिति से कोई वास्ता नहीं है। हां एक साल पहले तक उस पर कोई छोटा पद था।

एसएसपी अजय साहनी ने बताया कि कार पर भाजपा और गौरक्षा सेवा समिति लिखने वाले पुलकित पर धोखाधड़ी में भी कार्रवाई की जा रही है। अभी तक छात्रा के 163 सीआरपीसी में बयान दर्ज नहीं हो पाए हैं। छात्रा की हालत खराब होने के कारण उसे बयान दर्ज नहीं हो सके। एसओ दिनेश चंद्र का कहना है कि छात्रा के परिवार ने कल से घटना को दबाया हुआ था। पुलिस ने अपनी तरफ से कार्रवाई की है। छात्रा के जल्द बयान कराकर आरोपित के खिलाफ आरोप पत्र कोर्ट में दाखिल किया जाएगा।

यह भी पढ़ें- बिजनाैर पहुंचे आप सांसद संजय सिंह ने कहा अपराध राेकने में असफल याेगी सरकार करा रही फर्जी मुकदमे



Advertisement