अब नहीं उठानी होगी जहमत, घर-घर पहुंचकर कोविड-19 की जांच करेंगे कोरोना योद्धा

आजमगढ़. अब कारोना जांच के लिए सीएचसी, पीएचसी अथवा जिला अस्पताल तक भटकना नहीं होगा। जांच टीम खुद आपके घर तक पहुंचेगी और जांच करेगी। स्वास्थ्य विभाग ने गांव-गांव जाकर जांच की जिम्मेदारी राष्ट्रीय सचल चिकित्सा इकाई को सौंपी है। एक नवंबर से चार ब्लाकों में एक-एक टीम ने कार्य शुरू कर दिया है। जबकि एक टीम जिला मुख्यालय पर बनी हुई है। टीम का दावा है कि उनका प्रयास है कि शत प्रतिशत लोगों की जांच हो ताकि संक्रमण की संभावना को पूरी तरह समाप्त किया जा सके।

बता दें कि कोरोना संक्रमण शुरू होेने के बाद से ही राष्ट्रीय सचल चिकित्सा इकाई निरंतर सराहनीय कार्य कर रही है। कोरोना संक्रमण की जांच के साथ ही टीम लोगों को दवा भी उपलब्ध करा रही है। खास बात है कि यह टीमें लोगों को जागरूक करने में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही है। अब तक यह टीमें 30 अक्टूबर तक 14207 लोगों की जांच कर चुकी हैं।

अब यह टीम गांव गांव जाकर लोगों की जांच करेगी और संक्रमित लोगों को कोरंटाइन कराने के साथ ही उपचार की व्यवस्था सुनिश्चित करेगी। प्रथम चरण में जिले के चार ब्लाक लालगंज, अहरौला, अजममगढ़ एवं सठियांव में टीम ने एक नवंबर से काम शुरू कर दिया है। इस ब्लाकों को कवर करने के बाद टीम चार दूसरे ब्लाकों में काम करेगी। इस तरह सभी 20 ब्लाकों में अभियान चलाया जाएगा।

सहायक जिला पर्यवेक्षक राष्ट्रीय सचल चिकित्सा इकाई शंकर दायल ने बताया कि हमार लक्ष्य है कि शत प्रतिशत लोगों की जांच हो जिससे संक्रमण की संभावनाओं को समाप्त किया जा सके। इस दौरान जो लोग पाजिटिव मिलते हैं उनकों त्वरित उपचार मिले। साथ ही संक्रमण के प्रति लोगों को जागरूक किया जा सके। ताकि लोग खुद अपना बचाव कर सकें।

BY Ran vijay singh



Advertisement