यूपी पंचायत चुनाव 2020: 45 दिन में ग्राम प्रधानों को खर्च करने होंगे 68 लाख रुपये, जानिये क्यों

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

एटा। यूपी में अगले साल पंचायत चुनाव होने हैं, जिसकी तारीखों को लेकर योगी सरकार मंथन कर रही है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक सरकार फरवरी और मई की कुछ तारीखों पर विचार कर रही है। इस बीच ग्राम पंचायतों को 45 दिनों में 40 प्रतिशत शेष पैसा गांवों के विकास पर खर्च करने के आदेश दिए गए हैं। दरअसल, एटा के जिला पंचायतराज अधिकारी ने सभी ग्राम प्रधानों को दिसंबर अंत तक 40 प्रतिशत बची धनराशि से विकास कार्य पूर्ण कराने के निर्देश दिए हैं। अभी तक प्रधानों द्वारा करीब 60 प्रतिशत पैसा ही खर्च किया है।

यह भी पढ़ें: CBI से हाईकोर्ट ने पूछा- कब पूरी होगी जांच, डीएम को लेकर योगी सरकार से भी किया सवाल

जिला पंचायतराज अधिकारी आलोक प्रियदर्शी ने जानकारी देते हुए बताया कि जिले में 576 ग्राम पंचायते हैं। जिनमें आवंटित की गई धनराशि से स्कूलों में कायाकल्प कार्य, सड़क, सीसी, खरंजा, सामुदायिक शौचालय, नाली निर्माण, शौचालय निर्माण, वॉटर हार्वेस्टिंग, हैंडपंप रिबोर, खाद्य के लिए गड्ढे खोदने आदि का कार्य कराया गया है। इसमें पंचायतों ने लगभग 63 प्रतिशत धनराशि खर्च की है, जबकि अभी भी पंचायतों में लगभग 38 से 40 प्रतिशत तक धनराशि बची हुई है। जिससे कार्यकाल पूर्ण होने से पहले विकास कार्य कराने को कहा गया है।

यह भी पढ़ें: 10 लाख तक का बिजनेस शुरू करने के लिए लोन देने में बैंक करे आनाकानी तो यहां करें शिकायत

उन्होंने बताया कि दिसंबर में ग्राम पंचायतों का कार्यकाल समाप्त होने वाला है। शासन ने वर्ष 2020 में पंचायतों में विकास, निर्माण कार्य हेतु 172.41 लाख रुपये पंचायतों में भेजे गए। इसमें से प्रधानों द्वारा अपने-अपने ग्राम पंचायतों में से 60 से 63 प्रतिशत यानि करीब 107.68 लाख रुपये धनराशि विकास कार्यों में खर्च कर ली है। जबकि लगभग 65 से 68 लाख रुपये अभी बचे हुए हैं, जिन्हें भी दिसंबर तक विकास कार्यों में लगाने के कहा गया है।



Advertisement