26/11 आ’तंकी ह’मले के मास्टरमाइंड हाफिज सईद को पाकिस्तान की एक अदालत ने सुनाई 10 साल की सजा

मुंबई में हुए 26/11 ह’मलों के मास्टरमाइंड हाफिज सईद को पाकिस्तान की एक अदालत ने 10 साल की स’जा सुनाई है. हाफिज को ये सजा टे’रर फंडिंग से जुड़े दो मामले को लेकर सुनाई गई है. हालाँकि इस स’जा पर कितना अमल होगा ये पाकिस्तान में हाफिज सईद की हैसियत को देख कर आसानी से समझा जा सकता है. पाकिस्तान पर आ’तंकि’यों पर कारवाई को लेकर अंतर्राष्ट्रीय दवाब पड़ रहा है और FATF ने उसे ग्रे लिस्ट में शामिल कर रखा है. आशंका जताई जा रही है कि ब्लैकलिस्ट होने से बचने के लिए भी पाकिस्तान की तरफ से ये दिखावटी कारवाई हो सकती है.

हाफिज सईद आ’तंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा का संस्थापक है. साथ ही पाकिस्तान में वो जमात-उद-दावा नाम का संगठन भी चलाता है. अमेरिका ने सईद के सिर पर एक करोड़ डॉलर का इनाम घोषित किया था. जबकि संयुक्त राष्ट्र ने हाफिज सईद को वैश्विक आ’तंकवा’दी घोषित कर रखा है. भारत को भी मुंबई ह’मलों के सिलसिले में उसकी तलाश है.

टे’रर फंडिंग के दो अन्य मामले में हाफिज सईद को इस साल फरवरी में आ’तंकवा’द निरोधी अदालत द्वारा 11 साल की स’जा सुनाई गई थी. वह लाहौर की कड़ी सुरक्षा वाली कोट लखपत जेल में बंद है., लेकिन कहा जाता है कि उसकी ये सजा बस दिखावटी है. वो जेल से ही अपना संगठन चला रहा है और उसे वहां हर तरह की सुविधाएँ भी मिल रही है.



Advertisement