35 लाख छात्र-छात्राओं मिलेगी छात्रवृत्ति और फीस की भरपाई, योगी सरकार ने रोक हटाई

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

लखनऊ. कोरोना काल में आर्थिक संकट का सामना कर रहे अभिभावकों और छात्रों को योगी सरकार ने बड़ी राहत दी है। उत्तर प्रदेश सरकार ने छात्रवृत्ति पर लगी रोक हटा ली है। सरकार के इस फैसले से 35 लाख छात्र-छात्राओं को फायदा होगा। वित्त विभाग के विशेष सचिव ओम प्रकाश द्विवेदी की ओर से इस संबंध में आदेश भी जारी कर दिया गया है। योगी सरकार ने अनुसूचित जाति, पिछड़ा वर्ग, अल्पसंख्यक और सामान्य वर्ग के गरीब छात्र-छात्राओं को दी जाने वाली छात्रवृत्ति और फीस वापसी पर लगी रोक हटा ली है। चालू शैक्षणिक सत्र से ही छात्र-छात्राओं को छात्रवृत्ति और फीस की भरपाई के लिये सहमति दे दी है। सरकार का ये फैसला ऐसे समय में आया है जब कोरोना महामारी के चलते लोगों को आर्थिक परेशानियों का सामना है।

 

बीएड बीटीसी वालों को करना होगा इंतजार

योगी सरकार के फैसले से जहां 35 लाख छात्र-छात्राओं के चेहरे पर मुस्कान है वहीं बीएड और बीटीसी छात्रों को अभी इस खुशी के लिये और इंतजार करना पड़ेगा। अभी प्रदेश में संचालित बीएड और बीटीसी पाठ्यक्रम चलाने वाले शिक्षण संस्थानों के छात्र छात्राओं को यह सुविधा नहीं मिलेगी। छात्रवृत्ति और फीस भरपाई की रकम हड़पे जाने के मामले सामने आने के बाद सरकार इन शिक्षण संस्थानों की जांच कर रही है। मथुरा में बीएड और बीटीसी छात्र-छात्राओं के नाम पर लाखों की छात्रवृत्ति और फीस भरपाई की रकम हड़पे जाने का मामला सामने आने के बाद इस तरह के मामलों की विस्तृत जांच कराई जा रही है।

 

तीन सदस्यी कमेटी कर रही है जांच

प्रदेश में बीएड और बीटीसी पाठ्यक्रम चलाने वाले शिक्षण संस्थानों की जांच अल्पसंख्यक कल्याण निदेशक की अध्यक्षता वाली तीन सदस्यी कमेटी कर रही है। कहा जा रहा है कि जांच पूरी होेन के बाद इन छात्रों को भी वजीफे की सुविधा बहाल हो जाएगी। समाज कल्याण विभाग अनुसूचित जाति और सामान्य वर्ग, पिछड़ा वर्ग कल्याण विभाग ओबीसी और अल्पसंख्यक कल्याण विभाग अल्पसंख्यक समुदाय के गरीब और जरूरतमंद छात्र-छात्राओं को उनकी पढ़ाई जारी रखने के लिए छात्रवृत्ति और फीस की भरपाई की सुविधा देता है। दिव्यांग छात्र-छात्राओं को भी दिव्यांगजन कल्याण विभाग की ओर से छात्रवृत्ती और फीस भरपाई का लाभ दिया जाता है।



Advertisement