अर्नब गोस्वामी की गिरफ्तारी के बहाने योगी सरकार पर बरसे राजभर, कहा- यूपी में 40 पत्रकारों के खिलाफ एफआईआर

लखनऊ. पत्रकार अर्नब गोस्वामी की गिरफ्तार पर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ समेत भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेताओं के बयानों पर कटाक्ष करते हुए सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (सुभासपा) अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर ने कहा कि एक साल में 40 पत्रकारों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने वाली योगी सरकार मुबंई में हुई घटना पर बिलबिला रही है।

चालीस पत्रकारों पर एफआईआर

राजभर ने ट्वीट करते हुए कहा कि एक साल में चालीस पत्रकारों पर एफआईआर हुई। पत्रकारों की हत्या हो गयी। सरकार के खिलाफ खबर लिखने पर ईओडब्लू जैसी ऐजेंसी पीछे लगा दी गई पर जो आज अर्नब की गिरफ्तारी पर बिलबिला रहे है वह खामोश थे और अर्नब की गिरफ्तारी से इनको लोकतंत्र की याद आ रही है। नौटंकी इसी को कहते है।

इमरजेंसी या रामराज?

राजभर ने एक अन्य ट्वीट में लिखा कि योगी सरकार में मिड डे मील के नाम पर मासूम बच्चों को नमक रोटी परोसे जाने की खबर सामने लाने वाले मिजार्पुर के पत्रकार पवन जायसवाल, आजमगढ़ के पत्रकार संजय जायसवाल, प्रशांत कनौजिया भ्रष्टाचार उजागर करने वाले मनीष पांडेय के साथ यूपी सरकार ने जो किया वो क्या था। इमरजेंसी या रामराज। योगी सरकार में मंत्री रह चुके राजभर ने लिखा कि पत्रकार गौरी लंकेश, नरेंद्र दाभोलकर पर जानलेवा हमले होते हैx। प्रशान्त कनोजिया को जेल में डाला जाता है। दलित पत्रकार मीना कोटवाल के साथ हाल ही में बिहार के मोतिहारी में बदसुलूकी की जाती है। तब अर्णव के समर्थन में उतरने वाले बीजेपी के लोग छfपे होते है या फंसे होते है। पूछता है भारत।



Advertisement