कोर्ट ने निलंबित आईपीएस मणिलाल पाटीदार को किया भगोड़ा घोषित, एंटी करप्शन कोर्ट ने जमानत याचिकाएं की खारिज

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
महोबा. जनपद से निलंबित किए गए आईपीएस मणिलाल पाटीदार को कोर्ट ने भगोड़ा घोषित कर दिया है। कोर्ट ने मणिलाल पाटीदार की दो अग्रिम जमानत याचिका भी खारिज कर दी है। एक अग्रिम जमानत याचिका भ्रष्टाचार मामले में खारिज हुई है, वहीं दूसरी जमानत याचिका आत्महत्या के लिए उकसाने के मामले में खारिज हुई है। आईपीएस मणिलाल पाटीदार पर महोबा के क्रशर कारोबारी इंद्रकांत त्रिपाठी को आत्महत्या के लिए उकसाने का आरोप है। एंटी करप्शन कोर्ट ने ये ज़मानत याचिकाएं खारिज की हैं। अब आईपीएस मणिलाल पाटीदार को कोर्ट ने भगोड़ा घोषित होने के बाद जल्द ही उनकी गिरफ्तारी की संभावना जताई जा रही है।

दरअसल, महोबा के क्रशर प्लांट व्यापारी इंद्रकांत त्रिपाठी की मौत के मामले में तत्कालीन एसपी मणिलाल पाटीदार समेत अन्य को नामजद किया गया था। इसके बाद उन्हें निलंबित भी कर दिया गया था। मामले में नामजद किए जाने के बाद से ही मणिलाल पाटीदार फरार चल रहे हैं। पिछले दिनों मृतक व्यापारी के परिजनों की शिकायत पर एसआईटी से जांच ट्रांसफर कर जोनल एसआईटी को सौंप दी गई थी। इसके बाद मणिलाल पाटीदार के खिलाफ गैरजमानती वारंट जारी हुआ और उनकी फरारी को लेकर नोटिस उनके राजस्थान स्थित घर पर लगाया गया। पुलिस को अब तक फरार आईपीएस का सुराग नहीं लग सका।

मामले में प्रयागराज क्राइम ब्रांच की टीम भी उनकी तलाश में लगी है। राजस्थान में कई जगह रेड पड़ रही हैं लेकिन सफलता अब तक नहीं मिली। निलंबित आईपीएस मणीलाल पाटीदार पर भृष्टाचार समेत क्रशर व्यापारी इन्द्रकांत त्रिपाठी को आत्महत्या के लिए उकसाने जैसे गंभीर आरोप हैं। एंटी करप्शन कोर्ट ने ये जमानत याचिकाएं खारिज की हैं। अब आईपीएस मणिलाल पाटीदार को कोर्ट ने भगोड़ा घोषित होने के बाद जल्द ही उनकी गिरफ्तारी की संभावना जताई जा रही है।



Advertisement