यहां तो भाजपाइयों की भी नहीं सुनती पुलिस आम आदमी का क्या?

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

आजमगढ़. सरकार लाख निर्देश जारी करे कि शिकायतों को गंभीरता से लिया जाय और हर शिकायत का पुलिस गंभीरता से निस्तारण कर लेकिन आजमगढ़ पुलिस सीएम की भी नहीं सुनती। अंदाजा इस बात से लगा सकते हैं कि दबंग भाजपा अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ के नेता के घर में घुसकर तोड़फोड़ करते हैं और परिजनों को मारते पीटते हैं लेकिन जब भाजपा नेता थाने पहुंचता है तो एफआईआर दर्ज करना दूर पुलिस तहरीर तक नहीं लेती है। अंदाजा लगाया जा सकता है कि अगर पुलिस भाजपाइयों की शिकायत को गंभीरता ने नहीं ले रही है तो आम आदमी का क्या?।

घटना बरदह थाना क्षेत्र के मैनपुर गांव की है। इस गांव के माहिद अली भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा के ठेकमा मंडल के अध्यक्ष हैं। माहिद का आरोप है कि गांव के कुछ मनबढ़ युवक शनिवार की रात घर के पास डीजे बजा रहे थे।

तेज आवाज में डीजे बजाने का उन्होंने विरोध किया तो मनबढ़ों ने घर पर चढ़कर तोड़फोड़ की। घर में रखी कुर्सी, मेज समेत अन्य सामान क्षतिग्रस्त कर दिए। दबंगों ने उन्हें पार्टी न छोड़ने पर गांव छोड़कर चले जाने की धमकी दी। घर में तोड़फोड़ के दौरान ही उन्होंने डायल-112 पर फोन कर शिकायत की। डायल-112 पुलिस मौके पर पहुंची और उनके सामने ही मनबढ़ों ने फिर से मारपीट की। जब वह रात में थाने पर गए तो सुबह बुलाया गया।

इसके बाद वे थाने पहुंचकर तहरीर दी लेकिन पुलिस ने तहरीर लेने से इनकार कर दिया। मामले में बरदह थानाध्यक्ष विनोद कुमार ने बताया कि घटना की जांच की जा रही है। जांच के बाद मुकदमा दर्ज कर लिया जाएगा। अब जरा सोचिए अगर सत्ताधारी दल के नेता की तहरीर पुलिस नहीं ले रही है और मुकदमा नहीं दर्ज कर ही है तो आम आदमी की स्थिति क्या होगी।

BY Ran vijay singh



Advertisement