पटाखों के गढ़ जैदपुर में बारुद से खेल रहे मासूम बच्चे, बना रहे खतरनाक पटाखे, पुलिस-प्रशासन कर रहा किसी बड़े हादसे का इंतजार

बाराबंकी. दिवाली नजदीक है। ऐसे में आतिशबाजी बनाने वालों और दुकानदारों ने स्टॉक बढ़ाना शुरू कर दिया है। जिले में पहले एक सैकड़ा से ज्यादा लोगों के पास आतिशबाजी बनाने और बेचने का लाइसेंस था, पर दो साल पहले रामसनेहीघाट के धरौली में पटाखा बनाते समय हुए विस्फोट के बाद सभी लाइसेंस निलंबित कर दिए गए थे। जिसके बाद जांच-पड़ताल के बाद 22 लाइसेंस का नवीनीकरण किया गया है। इनमें 12 लोगों के पास बनाने, बेचने दोनों जबकि बाकी के पास सिर्फ बेचने का ही लाइसेंस है। लेकिन फिर भी जिले में पटाखों का गढ़ माने जाने वाले जैदपुर में कई स्थानों पर अभी भी आबादी के बीच चोरी-छिपे पटाखे बनाए जा रहे हैं। और तो और इस गोरखधंधे में छोटे-छोटे बच्चे भी शामिल हैं। ऐसे में यदि जरा सी चिंगारी लगी तो जनपद में एक और बड़ा हादसा हो सकता है। यहां एक बात आपको और बता दें कि इनमें उसी परिवार के कई बच्चे शामिल हैं जो साल 1996 में पटाखा बनाते समय हादसे का शिकार हो गए थे, फिर भी ये लोग बच्चों की जिंदगी से खिलवाड़ करने से बाज नहीं आ रहे। ऐसे में बड़ा सवाल पुलिस और प्रशासन पर भी खड़ा होता है कि क्या एक बार फिर किसी बड़े हादसे का इंतजार किया जा रहा है या फिर इस काम में भी सबकी सांठगांठ है।

 

बारूद से खेल रहे मासूम

मामला जैदपुर का है। सबसे ज्यादा आठ लाइसेंसी नगर पंचायत जैदपुर में ही हैं। जैदपुर के चार लोगों के पास पटाखा बनाने और बेचने दोनों जबकि चार लोगों के पास सिर्फ बेचने का लाइसेंस है। आबादी से दो-दो किलोमीटर दूर पटाखा बनाने का गोदाम है। लेकिन यहां पटाखा बनाने वाले लोग इस काम में छोटे-छोटे मासूम बच्चे को भी लगाए हैं। ये लोग इन मासूम बच्चों की जिंदगी से खुलेआम खिलवाड़ कर रहे हैं। और तो और इनमें से कई बच्चे ऐसे भी हैं तो ठीक से अपना नाम और उम्र भी नहीं बता पा रहे। इनमें उसी परिवार के कई बच्चे शामिल हैं जो साल 1996 में पटाखा बनाते समय हादसे का शिकार हो गए थे, फिर भी ये लोग बच्चों की जिंदगी से खिलवाड़ करने से बाज नहीं आ रहे।

 

अपनी उम्र तक नहीं बता पा रहे बच्चे

जब हमने इन बच्चों से पूछा कि वह यह काम क्यों कर रहे हैं, तो वह जवाब नहीं दे पाए। इनमें से कई नाबालिग बच्चे अपनी उम्र तक नहीं बता पाए। उनका कहना था कि वह यहां कई दिनों से काम कर रहे हैं। पटाखे का काम करने वाले इरफान अहमद हमारी जावेद आतिश्बाज के नाम से दुकान है। हमारे पास पिछले 20 सालों से पटाखे बनाने का लाइसेंस है। उन्होंने बताया कि वह अनार, महताब और गोले बनाते हैं। वहीं बच्चों के पटाखे बनाने का काम करने की बात को नकारते हुए इरफान अहमद ने कहा कि बच्चे खाना देने आए थे। वह वहां काम नहीं करते हैं। हालांकि बाद में उन्होंने अपनी गलती मानी। वहीं आतिशबाज मोहम्मद कादिर और अल्ताफ ने बताया कि कोरोना का वदह से धंधा ठीक नहीं चल रहा, ऐसे में हमारा कर्जा पूरा हो जाए, तो वह बड़ी बात होगी।

 

जांच के बाद होगी कार्रवाई

वहीं पटाखे बनाने के धंधे में बच्चों के शामिल होने की बात पर बाराबंकी के एसपी डॉ. अरविंद चतुर्वेदी ने कहा कि बच्चों के पटाखे बनाने की बात की जांच कराएंगे। इसके लिए वह अधिकारियों से जांच करवा रहे हैं। अगर ऐसी शिकायतें सही पाईं गईं तो संबंधित के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

 



Advertisement