सावधान! नवंबर की ठंड में और भी खतरनाक हो सकता है कोरोना

मेरठ. प्रदूषण और कोरोना की दोहरी चुनौती को लेकर इस समय आम लोग सजग नहीं हैं। जबकि स्वास्थ्य विभाग इसको लेकर चेतावनी जारी कर चुका है। हाल ही में एम्स के निदेशक डाॅक्टर गुलेरिया ने कोरोना को लेकर लोगों को चेताया था, जिसमें उन्होंने कहा कि अभी कोरोना संक्रमण गया नहीं है। अभी दूसरी लहर ही चल रही है। अगले कुछ हफ्ते वाकई काफी सतर्कता बरतने वाले हैंं। मेरठ मेडिकल के कोविड-19 वार्ड में मरीजों का इलाज कर रहे चिकित्सक डाॅ. तुंगवीर सिंह आर्य बताते हैं कि जब तक बहुत जरूरी न हो, घर से बाहर न जाएं। जाना जरूरी भी हो तो मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए धूप निकलने के बाद ही जाएं।

यह भी पढ़ें- यूपी में अब तक कोविड-19 के डेढ़ करोड़ टेस्ट : सीएम योगी

मेरठ समेत पूरे एनसीआर में कोरोना वायरस से संक्रमण के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। इसे देखते हुए कोरोना की तीसरी लहर की चर्चा तेज हो गई है। इस संबंध में डाॅ. तुंगवीर सिंह आर्य साफ इंकार करते हैं। उनका कहना है कि अभी दूसरी लहर ही है, जो फिर से तेज हो गई है। उन्होंने इसके पीछे सावधानी बरतने में ढिलाई का भी उल्लेख किया और कहा कि सोशल डिस्टेंसिंग का पालन ठीक से नहीं किया गया और मास्क लगाने में भी ढिलाई बरती जा रही है।

प्रदूषण और वायरस दोनों ही फेफड़े को करते हैं प्रभावित

डाॅ. तुंगवीर ने इसके लिए मौसम और प्रदूषण को भी जिम्मेदार बताते हुए कहा कि प्रदूषण के कारण वायरस ज्यादा देर तक हवा में रहता है। प्रदूषण और वायरस दोनों ही फेफड़े को प्रभावित करते हैं। उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस अभी खत्म नहीं हुआ। यूरोप और अन्य देशों का उदाहरण देते हुए डॉक्टर तुंगवीर ने कहा कि मास्क जरूर लगाएं। जरूरी काम न हो तो बाहर न जाएं। उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा कि यदि हम सावधानी नहीं बरतेंगे तो और भी ज्यादा मामले सामने आएंगे।

अगले कुछ हफ्ते सतर्क रहने की जरूरत

प्रदूषण और कोरोना की दोहरी चुनौती को लेकर उन्होंने बताया कि जब तक बेहद जरूरी न हो, बाहर न जाएं। जाना जरूरी भी हो तो मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए धूप निकलने के बाद जाएं। उन्होंने कहा कि कोरोना से संक्रमण के मामले कम हो रहे हैं। दिवाली के बाद तक मामले कम होते रहे तो कह सकेंगे कि पीक खत्म हो गया है। हमें आने वाले कुछ हफ्ते तक अधिक सतर्क रहने की जरूरत है। हालांकि कोरोना को लेकर मेरठवासी गंभीर नहीं है। उनके चेहरे पर न तो मास्क दिखाई दे रहा है और न सोशल डिस्टेंस का पालन करते दिखाई दे रहे हैं। कोरोना को लेकर सीएमओ डाॅ. राजकुमार गाइडलाइन जारी कर चुके हैं, लेकिन इसके बाद भी मेरठवासी कोरोना को लेकर बेखौफ हैं।

यह भी पढ़ें- Weather Forecast: नवंबर शुरू होते ही सर्दी ने तोड़ा रिकॉर्ड, इस साल पड़ेगी कड़ाके की ठंड



Advertisement