दिवाली की पूजा के समय गायब हुई मासूम का क्षत-विक्षत मिला शव, बलि की अंशका

कानपुर. एक तरफ दिवाली की खुशियां थी वहीं दूसरी तरफ एक के मासूम बच्ची की नृशंस हत्या हो रही थी। जिसके शरीर के कई अंग भी गायब हैं। घटना की जानकारी उस समय हुई जब सुबह शव माता रानी के मंदिर के पास होने की जानकारी मिली। सूचना पाकर मौके पर बड़ी संख्या में ग्रामीण पहुंच गए। स्थानीय थाना पुलिस घटनास्थल पर पहुंची। मासूम बच्ची की बलि चढ़ाने की चर्चा जोरों पर है। लेकिन अंदरूनी अंग गायब होने से कुछ और भी निकल कर सामने आ रहा है। फिलहाल पुलिस मामले की जांच कर रही है। इस संबंध में एसपी ने बताया कि शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा जा रहा है लोगों से पूछताछ की जा रही है शीघ्र ही घटना का खुलासा किया जाएगा।

कानपुर के घाटमपुर की घटना

घटना कानपुर के घाटमपुर थाना क्षेत्र की है। थाना क्षेत्र के गांव भदरस निवासी करण की 6 वर्षीय पुत्री श्रेया घर के सामने खेलते हुए अचानक गायब हो गई। उस समय परिवारी जन दिवाली की पूजा में लगे थे। सोचा बिटिया कहीं खेलने गई है। लेकिन पूजा के बाद भी जब श्रेया लौटकर नहीं आई तो उन्हें चिंता हुई। रात के अंधेरे में श्रेया को खोजा गया लेकिन वह नहीं मिली। रविवार की सुबह काली मंदिर के पास राहगीरों ने मासूम का शव देखा तो उन्होंने घटना की जानकारी लोगों को दी। काली मंदिर के पास शव पड़े होने की जानकारी मिलते ही मौके पर बड़ी संख्या में भीड़ इकट्ठा हो गई। परिजन भी पहुंच गए। जहां उसकी शिनाख्त श्रेया के रूप में हुई। शव क्षत-विक्षत था। उसके कई अंग भी गायब थे।

करण ने बताया

करण का कहना था कि उसकी बेटी की तंत्र मंत्र की वजह से हत्या की गई है। बेटी जब घर से बाहर खेल रही थी तो उसके हाथ पैर में रंग नहीं लगा था। लेकिन अब उसके हाथ और पैर में रंग और नेल पॉलिश लगाई गई है। नीम के पेड़ के पास श्रेया की चप्पल, कपड़े और कुरकुरे का पैकेट भी बरामद हुआ है। घटना के बाद ग्रामीणों में रोष व्याप्त है। इस संबंध में पुलिस अधीक्षक ग्रामीण बृजेश श्रीवास्तव ने बताया कि घटना के संबंध में एफआईआर दर्ज की जा रही है। शीघ्र ही घटना का खुलासा किया जाएगा।



Advertisement