पूर्व मंत्री ओम प्रकाश राजभर का योगी सरकार पर जोरदार हमला, इस बात को लेकर दिया एक हफ्ते का अल्टीमेटम

सीतापुर. उत्तर प्रदेश सरकार में पूर्व कैबिनेट मंत्री और सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष ओम प्रकाश राजभर ने किसानों पर हो रहे अत्याचार को लेकर योगी सरकार पर जमकर हमला बोला। ओम प्रकाश राजभर का कहना है कि बढ़ते प्रदूषण को लेकर किसान नहीं बल्कि बड़े-बड़े उद्योगपति जिम्मेदार हैं, क्योंकि 24 घण्टे फैक्ट्रियों की चिमनियां ही प्रदूषण फैला रही हैं। पूर्व कबीना मंत्री ने सीएम योगी आदित्यनाथ पर हमलवार होते हुए कहा कि एक तरफ सरकार किसानों के हित की बात करती है और दूसरी तरफ उन्हें जेल भी भेज रही है। उन्होंने कहा कि जब किसान की फसल जलती है तो पटवारी (लेखपाल) तक खबर नही पहुंचती और जब किसान पुआल जलाता है तो वह खबर दिल्ली तक पहुंच जाती है। पराली जलाने पर किसानों को जेल भेजने के मामले पर राजभर ने कहा कि योगी सरकार को हमने एक सप्ताह का अल्टीमेटम दिया है। अगर वह जेल भेजे गए किसानों को रिहा नही करती है तो हम लखनऊ में धरना प्रदर्शन कर सरकार के खिलाफ नारेबाजी करेंगे।

 

सरकार किसान विरोधी

पूर्व कैबिनेट मंत्री ओम प्रकाश राजभर सीतापुर के पिसावां इलाके के सेहुवापुर गांव में पार्टी पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं के साथ बैठक में शामिल होने के लिए पहुंचे थे। यहां पूर्व कबीना मंत्री ने कहा कि योगी सरकार किसानों के साथ दोहरा मापदंड अपना रही है क्योंकि जब आलू और प्याज किसान के खेत मे होता है तब वह 10-15 रुपये किलो ही बिकता है और जब गोदामों में पहुंचता है तो वह 60-65 रुपये किलों पहुंच जाता है। उन्होंने कहा कि यह सरकार किसान विरोधी है और यही किसान 2022 में इस सरकार को उखाड़ फेखेंगा।

 

एक सप्ताह का अल्टीमेटम

पराली जलाने पर किसानों को जेल भेजने के मामले पर राजभर ने कहा कि योगी सरकार को हमने एक सप्ताह का अल्टीमेटम दिया है। अगर वह जेल भेजे गए किसानों को रिहा नही करती है तो हम लखनऊ में धरना प्रदर्शन कर सरकार के खिलाफ नारेबाजी करेंगे। ओम प्रकाश राजभर का कहना है कि सरकार सबका साथ सबका विकास की बात करती है तो किसानों को जेल और फैक्ट्रियों के उद्योगपतियों को छूट क्यों दे रही है। गौरतलब है कि सीतापुर में पराली जलाने के मामले में अब तक 264 किसानों के खिलाफ केस दर्ज किया गया हैं जबकि 16 किसानों को जेल भी भेजा जा चुका है।



Advertisement