दिवाली स्पेशल - नमन करें प्रथम पूज्य श्री गणेश के परिवार का

कानपुर. सुख समृद्धि का पर्व दीपावली के अवसर पर प्रथम पूज्य श्री गणेश और महालक्ष्मी की पूजा की जाती है। विधि विधान से पूजा के बाद आरती भी की जाती है। जिसमें श्री गणेश जी की आरती के बाद मां लक्ष्मी की आरती की जाती है। दिवाली के पावन अवसर पर भगवान विष्णु की भी आरती गाने चाहिए। वरिष्ठ ज्योतिषाचार्य पंडित शंकर दयाल त्रिवेदी ने प्रथम पूज्य गणेश भगवान के परिवार के विषय में जानकारी दी। उन्होंने बताया कि सभी जानते हैं कि देवों के देव महादेव गणेश के पिता हैं और शक्ति की देवी पार्वती मैया है। कार्तिकेय उनके भाई हैं। जिन्होंने तारकासुर का वध किया था। वे देवताओं के सेनापति थे।

पंडित शंकर दयाल त्रिवेदी के अनुसार श्री गणेश की दो पत्नियां सिद्धि और बुद्धि थी। उन्होंने बताया कि शिव पुराण के अनुसार सिद्धि और बुद्धि विश्वरूप की पुत्री थी। सिद्वि कार्यो को पूरा करने में सहायक होती है, जबकि बुद्धि ज्ञान में वृद्धि करती है। श्री गणेश के दो पुत्र क्षेम और लाभ थे। क्षेम पूण्य, धन आदि को सुरक्षित रखते है। उनमें उत्तरोत्तर धीरे धीरे वृद्धि करते है। लाभ अपने भक्तों के धन वैभव यस में विधि करते हैं।



Advertisement