कोराना संक्रमित महिला ने तीसरी मंजिल से कूद कर दी जान

इटावा. इटावा के सैफई मेडिकल यूनिवर्सिटी के कोविड अस्पताल मे भर्ती कोरोना संक्रमित एक महिला ने तीसरी मंजिल से कूद कर बुधवार देर रात जान दे दी। असल मे आत्महत्या करने वाली महिला ब्रेन टयूमर से भी पीड़ित थी, जिसका उपचार मेडिकल यूनिवर्सिटी में चल रहा था। जांच मे कोविड पाजिटिव पाये जाने पर कोविड वार्ड मे भर्ती कराया गया।

संक्रमित महिला की मौत की पुष्टि करते हुए अपर चिकित्सा अधीक्षक कोविड-19 इंचार्ज अनिल ऐरी ने बताया कि, महिला की मौके पर ही मौत हो गयी। उसके शव को मोर्चरी में रखवा दिया गया है। आत्महत्या के कारणों का भी पता किया जा रहा है कि आखिर महिला ने खिड़की से छलांग क्यों लगाई।

महिला की मौत के कारणों में जुटे अफसर :- महिला के आत्महत्या करने के पीछे करवाचौथ पूजा न कर पाना मुख्य कारण माना जा रहा है लेकिन इस बात की पुष्टि किसी स्तर से फिलहाल नहीं हुई चूंकि महिला ने तीसरी मंजिल से कूद कर जान दी है इसलिए इस मौत करवाचौथ पूजा से जोड़ कर देखा जा रहा है। आइसोलेशन वार्ड नंबर 5 में भर्ती कोरोना संक्रमित महिला मैनपुरी जिले की रहने वाली थी। न्यूरो की बीमारी से ग्रस्त थी। पिछले 26, 27 अक्टूबर को फीमेल न्यूरो सर्जरी विभाग में इलाज के लिए भर्ती कराई गई थी। 29 अक्टूबर को कोरोना की जाॅच पाजिटिव आने पर उसको कोविड-19 अस्पताल की तीसरी मंजिल में आइसोलेशन वार्ड नम्बर 5 में भर्ती किया गया था। वार्ड में उसके साथ एक महिला और भर्ती थी। उस वक्त दो स्टाॅफ नर्स ग्रेड-2 ड्यूटी पर तैनात थी। महिला की मौत के बाद उसके परिजन अस्पताल पहुंचे। सूचना पर उपजिलाधिकारी एसडीएम हेमसिंह, थाना प्रभारी सतीश यादव भी अस्पताल पहुंचें। दोनों परिजनों से वार्ता कर महिला की मौत के कारणों का पता करने में जुटे हुए है।

पहला मामला नहीं :- सैफई मेडिकल यूनिवर्सिटी में आत्महत्या का यह कोई पहला मामला नहीं है। इससे पहले भी खिड़की से कूदकर मरीजों के जान देने के मामले सामने आते रहे है। वर्ष 2016 में एक कैदी ने खिड़की से कूदकर जान दी थी। वर्ष 2017 में ओपीडी के चार नंबर फ्लोर पर भर्ती टीबी मरीज ने कूदकर जान दी थी।



Advertisement