दीपोत्सव में शामिल होने से पहले होगा कोरोना जांच

अयोध्या : राम नगरी अयोध्या में इस वर्ष कोविड-19 को लेकर जारी एडवाइजरी के तहत सीमित लोगों के बीच ऐतिहासिक आयोजन किया जाएगा इस दीपोत्सव में शामिल होने वाले लोगो का कोरोना जांच किया जाएगा उसके बाद ही इस उत्सव में शामिल होने की अनुमति दी जाएगी।

राम नगरी अयोध्या में चौथे दीपोत्सव का आयोजन की तैयारी तेज कर दी गई है इस वर्ष होने वाले इस आयोजन में दर्शकों को शामिल होने की अनुमति नहीं दी गई है सिर्फ प्रमुख आमंत्रित लोग ही इस आयोजन में शामिल होंगे। जिसके लिए जिला प्रशासन द्वारा विशेष आमंत्रण पत्र दिया जाएगा वहीं राम की पैड़ी में 8000 वालंटियर 5.50 लाख दीप जलाएंगे इस दौरान सभी वालंटियर को मास्क के साथ सोशल डिस्टेंस के साथ राम की पैड़ी में होंगे। राम की पैड़ी पर भी दर्शकों के आगमन पर रोक होगा लेकिन आने वाले वालंटियर कभी कोरोनावायरस किया जाएगा जिसके लिए राम की पैड़ी पर चारों प्रवेश मार्ग पर मेडिकल टीम थर्मल स्कैनर कर परीक्षण करेंगे।

दीपोत्सव के नोडल अधिकारी शैलेंद्र कुमार वर्मा ने बताया कि राम की पैड़ी पर आने वाले वॉलिंटियरों की मेडिकल टीम द्वारा थर्मल स्कैनिंग की जाएगी और जिस भी वालंटियर के किसी भी प्रकार से पॉजिटिव पाए जाने की आशंका भी जताई जाएगी तो उसे भी दीपोत्सव स्थल पर प्रवेश नहीं दिया जाएगा। साथ ही बताया कि 5.50 लाख दीप जलाए जाने के लिए अवध विश्वविद्यालय सहित 15 महाविद्यालय के छात्र छात्राओं को अलग-अलग घाटों पर लगाया गया है इस वर्ष कुल 24 घाटों पर दीपों का प्रज्वलित किया जाएगा।



Advertisement