त्रेता युग की कल्पना से सजी राम नगरी भगवान के आगमन का इंतजार

अयोध्या : 500 वर्षों से अयोध्या जिस त्रेता युग के क्षण का इंतजार कर रही थी आज वह पूरा होता दिखाई दे रहा है त्रेता युग की कल्पना से पूरी अयोध्या सुसज्जित की गई है। और इस वर्ष राम नगरी में चौथा दीपोत्सव श्री राम जन्म स्थान से प्रारंभ होगा। इस दौरान उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ रामलला के दरबार में दीप जलाने रामजन्मभूमि परिसर पहुंचेंगे।

त्रेता युग के जिस अयोध्या की कल्पना की जाती रही है वह आज अद्भुत क्षण अयोध्या में दिखाई दे रहा है सरयू घाट मठ मंदिर मुख्य मार्ग पर राम जन्मभूमि परिसर रंग बिरंगी लाइटों का फूल मालाओं से सुसज्जित की गई है ऐसा छड़ पहली बार अयोध्या में देखने को मिल रहा है जब भगवान श्री राम के भव्य मंदिर निर्माण के साथ दिव्य दीपोत्सव का आयोजन किया जा रहा है त्रेता युग के बाद इस वर्ष भगवान श्री रामलला फिर से सरयू तट पर विमान से अयोध्या पहुंचेंगे। जहां भगवान श्री राम का राज्याभिषेक किया जाएगा । और इस क्षण के गवाह उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्या उप मुख्यमंत्री दिनेश शर्मा के साथ अयोध्या के एक हजार संत व आम नागरिक बनेंगे। दरसल कोविड-19 को लेकर अयोध्या के साधु-संत सहित एक हजार आगंतुकों को इस आयोजन में शामिल होने के लिए विशेष आमंत्रण पत्र भेजा गया है।

जिलाधिकारी अनुज झा के मुताबिक अयोध्या को पूरी तरह सजाया जा चुका है इस बार ग्रामीण क्षेत्रों को भी इस आयोजन में शामिल करते हुए धार्मिक स्थलों पर दीप प्रज्वलन किया जाएगा । श्री राम कथा पार्क में भगवान श्री राम के आगमन की तैयारी है जहां राज्याभिषेक भी किया जाएगा। इस दौरान 1000 लोग इस आयोजन में शामिल होने के लिए आमंत्रण पत्र दिया गया है



Advertisement