दीपावली पर आजमगढ़ से पीएम मोदी को जाएगा यह खास गिफ्ट

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
आजमगढ़. सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्योग को बढ़ावा देने तथा इनकी खोयी हुई पहचान को वापस दिलाने में जुटी सरकार ने बड़ा फैसला किया है। दीपावली पर यूपी सरकार गिफ्ट के रूप में इन उत्पादों का उपयोग करने का फैसला किया गया। इसके तहत एक जनपद एक उत्पाद में शामिल आजमगढ़ के ब्लैक पाटरी उत्पाद फ्लावर पाट से दीपावली पर पीएमओ कार्यालय सजेगा। कन्नौज के इत्र और फिरोजाबाद के कांच की मूर्तियां को भी पीएम कार्यालय भेजा जा रहा है। सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्योग मंत्रालय के ओडीओपी सेल की मांग पर ये उत्पाद आज शाम तक लखनऊ पहुंच जाएगा। यहां से उसे दिल्ली पीएमओ कार्यालय भेजा जाएगा। माना जा रहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के वोकल फार लोकल अभियान से जुड़कर उत्तर प्रदेश का हुनर और निखरेगा।

बता दें कि सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्योग मंत्रालय के ओडीओपी सेल लखनऊ एक जिला, एक उत्पाद से जुड़े संबंधित जिलों के हस्तशिल्पियों से 100-100 उत्पाद की मांग की है। आजमगढ़ ब्लैक पाटरी के 50 प्लेट व 50 फ्लावर पाट की मांग की गयी है। दीप पर्व पर की गई इस पहल से मिट्टी के परंपरागत कारोबार से जुड़े हस्तशिल्पियों में खुशी है।

राष्ट्रीय व राज्य पुरस्कार से सम्मानित निजामाबाद कस्बा के हुसैनाबाद मुहल्ले के हस्तशिल्पी सोहित प्रजापति की देख रेख में आर्डर के मुताबिक काली मिट्टी के फ्लावर प्लेट व फ्लावर पाट (गुलदस्ता) बनाकर पैकिंग भी कर चुके है। सोहित आज शाम तक उसे लखनऊ स्थित ओडीओपी सेल पहुंचाएंगे। यहां से बास्केट पीएमओ भेजा जाएगा।

सोहित ने बताया कि इन उपहारों को पैक करने के लिए ओडीओपी सेल ने स्पेशल पैकेट डिजाइन कराये है। लखनऊ में इन उत्पादों को उसमें पैक किया जाएगा फिर एक साथ पीएमओ भेजा जाएगा। विभागीय अधिकारियों के मुताबिक यह प्रधानमंत्री को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का दीपावली पर्व पर प्रदेश की जनता की तरफ से उपहार होगा।

इस संबंध में मुख्यमंत्री ने एक नवंबर को ट्वीट कर प्रदेशवासियों को दीपावली के उपहारों के संबंध में सलाह दी थी। ट्वीट में उन्होंने कहा था कि कीमत उपहार की नहीं, यादों की होती है। इस दीपावली पर अपने मित्रों व प्रियजनों को प्रदेश के ओडीओपी योजना के विशेष उत्पाद दें और उसे यादों के तौर पर संभालकर रखें।

मुख्यमंत्री की इस पहल से जिले के कुम्हार उत्साहित हैं। उनका कहना है कि सरकार की इस पहल से एक बार फिर पाटरी की अलग पहचान बनेगी। इस उद्योग के लिए यह संजीवनी साबित होगी। वहीं उपायुक्त जिला उद्योग एवं प्रोत्साहन केंद्र प्रवीण मौर्य का कहना है कि ओडीओपी सेल लखनऊ से ब्लैक पाटरी के अलावा अन्य जिलों के उत्पाद के संबंध में बात की गई थी। निजामाबाद के हस्तशिल्पियों से पहले नमूने मांगे गए थे। इसका चयन किया गया। आज आर्डर लखनऊ पहुंचाया जा रहा है।

BY Ran vijay singh



Advertisement