सपा के दलित विरोधी कार्यों से खफा मायावती ने दिखाया कड़ा रुख, कहा इस पार्टी को हराने के लिए पूरी ताकत लगा देगी बसपा

लखनऊ. लोकसभा चुनाव 2019 में भाजपा को हराने के लिए समाजवादी पार्टी से गठबंधन करने वाली बहुजन समाज पार्टी की मुखिया मायावती अब सपा के ही खिलाफ मैदान में उतर गई हैं। राज्यसभा चुनाव में सपा के निर्दलीय प्रकाश बजाज को समर्थन देने से खफा मायावती ने साफ कहा है कि अगर जरूरत पड़ी तो आने वाले एमएलसी चुनावों में दलित विरोधी सपा को सबक सिखाने के लिए बसपा, भाजपा या किसी अन्य पार्टी को वोट देगी। मायावती ने कहा कि सपा के दलित विरोधी कार्यों के खिलाफ अपना कड़ा रुख दिखाने के लिए यह निर्णय लिया है।

पूरी ताकत के साथ लड़ेगी बसपा

राज्यसभा की दस सीट की लड़ाई में बसपा ने इस खेल को बिगाडऩे की कोशिश में लगी समाजवादी पार्टी को चेतवनी दे दी है कि आगे इसका खमियाजा भुगतना पड़ेगा। बसपा प्रमुख मायावती ने पहले बागी विधायकों को निलंबित किया। इसके बाद बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने कहा कि सपा को हराने के लिए बसपा पूरी ताकत लगा देगी।

7 विधायकों को किया निलंबित

बता दें कि इससे पहले अपनी पार्टी के विधायकों के बागी तेवर से नाराज मायावती ने सात विधायकों को निलंबित भी कर दिया था। उधर, समाजवादी पार्टी ने अपना एक प्रत्याशी प्रोफेसर रामगोपाल यादव को चुनाव के मैदान में उतारने के साथ ही एक निर्दलीय प्रकाश बजाज को अपना समर्थन दिया था। इससे बहुजन समाज पार्टी के प्रत्याशी रामजी गौतम के चुनाव पर खतरा मंडराने लगा था। इस बात से नाराज बसपा प्रमुख मायावती ने पार्टी प्रत्याशी रामजी गौतम के साथ ही बसपा से बगावत करने वाले सात विधायकों को बड़ी अनुशासनहीनता के मामले में निलंबित कर दिया।

ये भी पढ़ें: इस बार करवाचौथ पर बीकानेरी सोने का करवा बना ग्राहकों की पसंद, 12 लाख 10 हजार में हुई बिक्री

ये भी पढ़ें: पहला कदम' और 'पहली उड़ान' में खुलवाए नाबालिक बच्चों का बैंक अकाउंट. डेबिट कार्ड के साथ मिलेंगे यह सुविधाएं



Advertisement