त्योहारी सीजन में सख्त हुई योगी सरकार, अधिकारियों की छुट्टी पर लगाई गई रोक

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

मेरठ। नवंबर का महीना त्योहारों का सीजन माना जाता है। इस समय कोरोना संक्रमण के काल में त्यौहारों को सकुशल ढंग से निपटना सरकार के लिए किसी चुनौती से कम नहीं है। सरकार ने त्यौहारों को सकुशल संपन्न कराने और कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए रणनीति बनाई है। इस रणनीति के तहत अब जिले में अधिकारियों के सभी प्रकार के अवकाशों पर रोक लगा दी गई है। प्रदेश सरकार ने आगामी त्योहारों के मद्देनजर सरकारी अधिकारियों की छुट्टी पर रोक लगाने के आदेश दिए हैं। मुख्य सचिव राजेंद्र कुमार तिवारी ने इस संबंध में दिशा-निर्देश जारी करते हुए कहा कि वर्तमान में विभिन्न पर्वों के आयोजन का समय है। इस समय कोरोना संक्रमण भी बढ़ रहा है। ऐसे में दोनों से निपटने के लिए विशेष कार्यक्षमता की जरूरत है।

यह भी पढ़ें: दिवाली से पहले जारी हुई गाइडलाइन, दुकानदार सिर्फ इतने दिन बेच सकेंगे पटाखे

ऐसे में जिलाधिकारी, अन्य प्रशासनिक अधिकारी व पुलिस अधिकारी अपरिहार्य परिस्थितियों को छोड़कर अवकाश पर न जाएं। उन्होंने इनके अवकाश स्वीकृत न करने का निर्देश दिए हैं। मुख्य सचिव ने जारी किए गए दिशानिर्देश में कहा है कि इस दौरान कई जिलों में पराली जलाने की घटनाएं सामने आ रही हैं जिसे रोकने की जरूरत है। इस संबंध में सुप्रीम कोर्ट ने भी निर्देश जारी किया है। उन्होंने अफसरों को इस संबंध में विशेष सतर्कता बरतने का निर्देश दिया है। उन्होंने कहा कि सर्दियों में वायु प्रदूषण बढ़ता है। इसे ध्यान में रखते हुए कार्ययोजना तैयार की जाए और प्रभावी कार्रवाई सुनिश्चित की जाए।

यह भी पढ़ें: जरूरी खबर: आज से बदल गए हैं LPG सिलेंडर, रेलवे व बैंक से जुड़े ये नियम

डीएम के. बालाजी ने बताया कि प्रशासनिक अधिकारियों के अवकाश निरस्त का निर्देश शासन स्तर से प्राप्त हुआ है। संबंधित विभागों को इससे अवगत कराया जा चुका है। वहीं एसएसपी डा. अजय साहनी ने बताया कि त्योहारों के मददेनजर सभी पुलिसकर्मियों के अवकाश निरस्त कर दिए गए हैं। कोई भी पुलिसकर्मी त्यौहारों के मददेनजर अवकाश पर नहीं जा सकता।



Advertisement