एचईओ-बीसीपीएम का हुआ जिला स्तरीय मोबाइल एप प्रशिक्षण कार्यक्रम, आशाओं के काम का होगा मूल्यांकन

बाराबंकी. आशा संगिनी के लिए मोबाइल एप आधारित सहयोगात्मक पर्यवेक्षण कार्यक्रम के अंतर्गतजनपदके सभी विकास खण्ड के ब्लाक कम्युनिटी प्रोसेस मैनेजर (बीसीपीएम) एवं स्वास्थ्य शिक्षा अधिकारी (एचईओ) का डाटा पर्यवेक्षण पर दो दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. बीकेएस चौहान की अध्यक्षता में आरसीएच हाल में आयोजित किया गया।

जनपद स्तरीय प्रशिक्षण कार्यक्रम में रीजनल मैनेजर अयोध्या मंजु कुमारी आशा एवं जिला कम्युनिटी प्रोसेस मैनेजर सुरेन्द्र कुमार द्वारा प्रशिक्षण प्रदान किया गया। उन्होंने कहा कि मोबाइल एप्लीकेशन के माध्यम से आशा संगिनी का कार्य सरल हुआ है। साथ ही ब्लाक स्तर पर एप्लिकेशन से प्राप्त आंकड़ों की समीक्षा नियमित रूप से करने की आवश्यकता है। इससे आशा संगिनियों को उनके कार्यों में बेहतर सहयोग प्रदान किया जा सके। कार्यक्रम में सीएमओ ने कहा कि इस मोबाइल एप से प्राप्त हो रहे मातृ एवं शिशु मृत्य एवं एचआरपी के आंकड़ों पर ध्यान दिया जाए।अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. सतीश चंद्रा ने कहा कि इस एप का ज्यादा से ज्यादा लाभ आशा संगिनी एवं आशाओं को मिले।

डीसीपीएम ने बताया कि प्रशिक्षक अपने ब्लॉक की आशा संगिनी को दो दिवसीय प्रशिक्षण करेंगे। इसके पश्चात सभी संगिनी मोबाइल फोन में केयर एप के माध्यम से आशा की क्रियाशीलता, एचआरपी चिन्हीकरण, केस फॉलोअप, मातृ मृत्यु सूची, शिशु मृत्यु सूची, हेल्थ वेलनेस सेन्टर पर भरे गए सीबीएसी फार्म सहित अन्य कार्यो को ऐप के माध्यम से किया जायेगा। उन्होंने बताया कि इस केयर एप की सक्रियता से उनके कार्यों में काफी सुधार हो सकेगा तथा वह अपने क्षेत्र की आशा के कार्यों का सही से मूल्यांकन कर सकेंगी।

इस दौरान डीसीपीएम एवं प्रशिक्षकों द्वारा प्रतिभागियों को एप्लिकेशन से डेटा एक्सपोर्ट करने एवं डाटा की समीक्षा करने के कौशलों को प्रभावी तरीके से सिखाया गया। इस मौके पर नेशनल हेल्थ मिशन के बीसीपीएम एवं स्वास्थ्य शिक्षा अधिकारी समेंत आदि मौजूद रहे।



Advertisement