ठेले पर इलाज के लिए भटक रही महिला निकली गैंगस्टर, डीएम और एसएसपी भी नहीं पहचान पाए

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

मेरठ। गैंगस्टर महिला भेष बदलकर मेरठ की झुग्गी झोपड़ी में रह रही थी। यह महिला अपने इलाज के लिए पिछले कई दिनों से ठेले पर लेटकर घूमती रही। कभी डीएम तो कभी सीएमओ कार्यालय पर अपने इलाज के लिए मदद मांग रही थी। लेकिन जब इसकी हकीकत खुली तो हैरान करने वाली जानकारी सामने आई। ये महिला हकीकत में एक गैंगस्टर निकली और मेरठ में वेष बदलकर झुग्गी—झोपड़ी में रह रही थी।

यह भी पढ़ें : हाथरस कांड: CRPF करेगी पीड़िता के परिवार की सुरक्षा, चप्पे-चप्पे पर तैनात किए गए 80 जवान

महिला के खिलाफ सहारनपुर में ठगी और ब्लैकमेलिंग के कई मुकदमे दर्ज हैं। सहारनपुर से भागकर वह मेरठ की झुग्गी-झोपड़ी में वेश बदलकर रह रही थी। सहारनपुर पुलिस ने महिला और उसके भाई को शुक्रवार देर रात गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने इस महिला को गिरफ्तार कर लिया है। इसका नाम ऊषा लूथरा है। यह कोतवाली क्षेत्र के केशवनगर जिला सहारनपुर की रहने वाली है।

यह भी पढ़ें: नाेएडा में बेटियाें के साथ मिलकर पत्नी ने किया पति का कत्ल, वजह जान पुलिस भी हैरान

गत 31 जुलाई 2020 को पुलिस ने उस पर गैंगस्टर एक्ट में कार्रवाई की थी तभी से वह फरार चल रही थी। ऊषा और उसके भाई हीरालाल लूथरा के खिलाफ सहारनपुर नगर कोतवाली में तीन व थाना मंडी में दो मुकदमे दर्ज हैं। दोनों भाई बहन मेरठ में गढ़ रोड पर आनंद हॉस्पिटल के पीछे झुग्गी-झोपड़ी में एक विक्षिप्त की तरह रह रहे थे। सहारनपुर पुलिस ने जब ऊषा लूथरा को गिरफ्तार किया तो उसके बाल बिखरे हुए थे। ठीक से बोला नहीं जा रहा था। वह चलने-फिरने तक की स्थिति में नहीं थी।

पुलिस के अलावा खुफिया एजेंसियां कितनी सक्रिय हैं इसका पता इस केस से चलता है। तीन माह से गैंगस्टर भाई बहन वेश बदलकर मेरठ की झुग्गी-झोपड़ियों में रह रहे थे। यही नहीं वह बराबर सरकारी दफ्तरों के चक्कर लगा रहे थे। एक भी बार किसी ने उन्हें गंभीरता से नहीं लिया। इस बारे में एसपी सिटी डा0 एएन सिंह ने बताया कि महिला के बारे में और जानकारी निकाली जा रही है। सहारनपुर पुलिस से भी मदद मांगी गई है।



Advertisement