Coronavirus: 235 लोग कोरोना पॉजिटिव, प्रदेश में तीसरे पायदान पर पहुँचा गौतमबुद्ध नगर

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

नोएडा। गौतमबुद्ध नगर में कोरोना का संक्रमण एक बार फिर से रफ्तार पकड़ने लगा है। बीते 24 घंटे में प्रदेश स्वस्थ विभाग कि रिपोर्ट के अनुसार जिले में 235 लोग कोरोना पॉज़िटिव पाये गए हैं। जबकि इस दौरान 129 लोगों ने कोरोना को मात भी दी। सक्रिय संक्रमितों के हिसाब से भी जिला एक बार फिर प्रदेश में तीसरे पायदान पर पहुँच गया है। अब जिले में कुल संक्रमितों का आंकड़ा 20,989 हो गया है। इनमें 1,411 सक्रिय है।

यह भी पढ़ें: दिल्ली के बाद यूपी के इस जिले में कोरोना ने फिर पकड़ी रफ्तार, एक सप्ताह में मिले 1500 मरीज

जिला सर्विलांस अधिकारी डॉ. सुनील दोहरे ने बताया कि जिले में अब संक्रमित होने वाले कुल मरीजों की संख्या 20,983 हो गई है। पूरे प्रदेश में सक्रिय मरीजों के मामले में गौतमबुद्ध नगर तीसरे नंबर पर है। यहां पर 1411 सक्रिय मरीज हैं, जिनका इलाज कोविड अस्पतालों और होम आइसोलेशन में चल रहा है। जिला प्रशासन, स्वास्थ्य विभाग और प्राधिकरण की टीमों ने संयुक्त रूप से अभियान चलाकर गुरुवार को 99 स्थानों को संक्रमण मुक्त किया। जिले में अब कंटेनमेंट जोन की संख्या भी बढ़कर 192 हो गई है। इसमें श्रेणी-1 के 188 और श्रेणी-2 के चार हैं।

डॉ. सुनील दोहरे ने बताया कि एक बार फिर जिले में कोरोना का संक्रमण बढ़ना शुरू हो गया है। संक्रमण की रोकथाम के लिए जिला प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी संयुक्त रूप से कार्ययोजना तैयार कर बार्डर पर दिल्ली से आने वाले लोगों की जांच कर रहे हैं। बोटेनिकल गार्डन और अशोक नगर बार्डर पर बृहस्पतिवार को दिल्ली से आने वाले 178 यात्रियों की कोरोना जांच की गई। इनमें 9 यात्री कोरोना संक्रमित मिले। जिन्हें एंबुलेंस के जरिये होम आइसोलेट कराया गया। मेट्रो स्टेशन पर 3 बजे तक 94 लोगों की जांच हुई, इनमें छह पॉजिटिव मिले। सभी नोएडा के रहने वाले हैं।

यह भी पढ़ें: कोरोना को लेकर फिर बढ़ी सख्ती, बॉर्डर के बाद अब मेट्रो स्टेशन और बस स्टॉप पर भी होगी Covid जांच

इसके अलावा अशोक नगर बार्डर पर 84 यात्रियों की रैंडम जांच की गई, इनमें तीन संक्रमित मिले। दिल्ली में संक्रमितों की संख्या बढ़ने के बाद जिला प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग गंभीर है। दिल्ली बॉर्डर से लेकर मेट्रो स्टेशन तक पर विशेष निगरानी बरतकर संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए हर संभव प्रयास किए जा रहे हैं। सेक्टर व सोसायटियों में अभियान चलाकर छिपे कोरोना संक्रमितों को तलाश किया जा रहा है। वहीं, कोरोना संक्रमितों के बढ़ते ही अस्पतालों में बिस्तरों की संख्या बढ़ाने पर भी विचार चल रहा है।



Advertisement