Good News: एक्सप्रेस-वे और हाईवे किनारे विकसित होगा हेरिटेज कॉरिडोर, इन जिलों की बदलेगी 'सूरत'

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

ग्रेटर नोएडा। औद्योगिक विकास मंत्री सतीश महाना ने शुक्रवार को यमुना प्राधिकरण में समीक्षा बैठक की। जिसमें उन्होंने औद्योगिक निवेश के साथ-साथ प्राधिकरण क्षेत्र में चल रही योजनाओं के बारे में चर्चा की। बैठक में सांसद डॉ. महेश शर्मा, विधायक धीरेंद्र सिंह भी शामिल हुए। मंत्री सतीश महाना ने बैठक के बारे में जानकारी देते हुए कहा कि उत्तर प्रदेश में एक्सप्रेस वे, हाईवे के किनारे एक किमी के दायरे में औद्योगिक क्षेत्र विकसित किया जाएगा। इसके लिए जमीन अधिग्रहण जल्द शुरू होगा। यमुना प्राधिकरण मथुरा और आगरा में हैरिटेज कारिडोर विकसित करेगा। औद्योगिक विकास मंत्री ने इसकी घोषणा के साथ ही विस्तृत परियोजना रिपोर्ट जल्द तैयार करने के लिए प्राधिकरण को निर्देश दिए।

यह भी पढ़ें : यूपी में ठंड को देखते हुए सभी जिलों काे आदेश, एक भी आदमी खुले में साेया ताे...

दरअसल, औद्योगिक विकास मंत्री यमुना प्राधिकरण की परियोजनाओं की समीक्षा करने के लिए ग्रेटर नोएडा आए थे। उन्होंने कहा कि अन्य प्रदेशों की तुलना में उत्तर प्रदेश में एक्सप्रेस वे, हाईवे का सबसे बड़ा नेटवर्क है। पूर्वांचल एक्सप्रेस वे का कार्य करीब साठ फीसद पूरा हो चुका है। बुंदेलखंड एक्सप्रेस वे का कार्य भी तेजी से चल रहा है। एक्सप्रेस वे से उद्योगों के विकास को रफ्तार मिलेगी।प्रदेश में डिफेंस कारिडोर विकसित किया जा रहा है। अलीगढ़, आगरा, लखनऊ, कानपुर, चित्रकूट, झांसी इसके औद्योगिक केंद्र बनेंगे। अलीगढ़ केंद्र में भूमि आवंटन लगभग पूरा हो गया है। झांसी व कानपुर में भी अधिकतर आवंटन हो चुका है। उद्योग स्थापित होने से प्रदेश में बड़ी संख्या में रोजगार सृजन होगा।

16वीं रैंक से दूसरी पर पहुंचा उत्तर प्रदेश

उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार ने औद्योगिक निवेश का माहौल तैयार करने के लिए पूरी व्यवस्था को पारदर्शी बनाया। कानून व्यवस्था सुधारने के लिए कड़े कदम उठाए हैं। प्रयासों का परिणाम है कि ईज आफ बिजनेस डूाइंग में उत्तर प्रदेश 2014-15 में 16 वीं रैंक से आज दूसरी पर पहुंच गया है। आंध्र प्रदेश कुछ अंकों के साथ ही आगे है। कोविड -19 के दौरान प्रदेश में 6700 करोड़ रुपये का औद्योगिक निवेश हुआ है। इससे एक लाख 63 हजार युवाओं के लिए रोजगार सृजन हुआ है। कोविड के दौरान वेंटिलेटर, मास्क का बड़े पैमाने पर निर्माण हुआ है। टॉय पार्क, एमएसएमई आदि से उद्योग को गति मिलेगी। प्राधिकरण से आवंटित भूखंड पर पांच साल में निर्माण पूरा कर इकाई संचालित करनी होगी। जून तक ढांचागत विकास कार्य पूरा कर आवंटियों को कब्जा दे दिया जाएगा।

यह भी पढ़ें: फिल्म सिटी के बाद अब लोक कलाकारों को प्रमोशन देगी सरकार, आज ही कर लें आवेदन

हैरिटेज कॉरीडोर से पर्यटन को मिलेगा बढ़ावा

यमुना प्राधिकरण मथुरा और आगरा में हैरिटेज कारिडोर विकसित करेगा। औद्योगिक विकास मंत्री ने इसकी घोषणा के साथ विस्तृत परियोजना रिपोर्ट जल्द तैयार कराने के प्राधिकरण को निर्देश दिए। हैरिटेज कारीडोर के जरिये पर्यटन को बढ़ावा दिया जाएगा। आधुनिक शहर के साथ ग्रामीण संस्कृति एवं मथुरा, वृंदावन का पुराना वैभव देखने को मिलेगा। इन शहरों के पुराने रूप की प्रतिकृति तैयार की जाएगी। इसके साथ हाट, ग्रामीण परिवेश में मेहमान नवाजी एवं व्यंजन, खरीदारी आदि करने के साधन विकसित किए जाएंगे। दिल्ली से आगरा जाने वाले पर्यटकों के लिए पर्यटन का यह नया केंद्र बनकर उभरेगा।

इन योजाओं पर भी हुई चर्चा

यमुना प्राधिकरण के सीईओ डॉ. अरुणवीर सिंह ने बताया कि प्राधिकरण के सभागार में आयोजित औद्योगिक विकास मंत्री सतीश महाना कि अध्यक्षता में समीक्षा बैठक में, सांसद डॉ. महेश शर्मा, विधायक धीरेंद्र सिंह भी शामिल हुए। बैठक में औद्योगिक निवेश को लेकर चर्चा हुई। अब तक हुए निवेश और यहां आने वाली कंपनियां के बारे में चर्चा हुई। इसके अलावा फिल्म सिटी, मेडिकल डिवाइस पार्क, थीम पार्क समेत तमाम परियोजनाओं पर चर्चा हुई ।



Advertisement