ब्रिटेन से आई दो महिलाएं कोरोना पॉजिटिव, घरों से गायब 60 संदिग्धों की तलाश में जुटा स्वास्थ्य विभाग

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

नोएडा। कोरोना वायरस के नए स्वरूप के मामलों के बाद ब्रिटेन और अन्य देशों से राज्य में आने वाले लोगों की कोविड-19 जांच अनिवार्य रूप से कराने के निर्देश दिए गए हैं। इसके बाद सक्रिय हुए चिकित्सा और स्वास्थ्य विभाग ने ऐसे यात्रियों की सर्विलान्स कर उनकी जांच शुरू की तो ब्रिटेन से नोएडा पहुंची दो महिलाओं में कोरोना की पुष्टि हुई है। राजकीय आयुर्विज्ञान संस्थान (जिम्स) में दोनों महिलाओं को भर्ती कराया गया है।

यह भी पढ़ें: डिप्रेशन के चलते महिला समेत चार लोगों ने किया सुसाइड, एक युवती ने एलिवेटेड रोड से लगाई छलांग

जिम्स निदेशक डॉ.राकेश गुप्ता ने बताया कि बृहस्पतिवार को ब्रिटेन से लौटी 34 वर्षीय महिला और 28 वर्षीय महिला का कोरोना सैंपल शनिवार को आई जांच रिपोर्ट में पॉज़िटिव मिली है। ब्रिटेन में मिले कोरोना के नए स्ट्रेन को देखते हुए दोनों महिलाओं का जीनोम सिक्वेंसिग जांच के लिए दोनों महिलाओं का सैंपल लेकर इंडियन मेडिकल काउंसिल आफ रिसर्च (आइसीएमआर) दिल्ली भेजा गया है। दोनों महिलाएं स्वस्थ है। इन्हें कोरोना के दूसरे मरीजों से अलग रखा गया है।

बता दें कि राज्य के चिकित्सा और स्वास्थ्य विभाग के अपर मुख्य सचिव अमित मोहन प्रसाद ने हाल ब्रिटेन से आए लोगो से अनुरोध है कि वे अपनी कोविड-19 की जांच जरूर करा लें और संक्रमित नहीं होने पर भी दस दिन घर में क्वॉरंटीन में रहें ताकि संक्रमण को फैलने से रोका जा सके। प्रशासन ने 9 दिसंबर के बाद ब्रिटेन से आए लोगों की आरटीपीसीआर जांच कराने के निर्देश तीन दिन पहले दिए थे। निर्धारित तिथि से अब तक 220 लोग ब्रिटेन से वापस लौटे। इनमें से 160 लोगों की आरटीपीसीआर की जांच की जा चुकी है, जिसमें से दो महिलाएं पॉजिटिव मिली हैं। वहीं 60 लोग अपने घर पर नहीं मिले, जिनके बारे में स्वास्थ्य विभाग जानकारी जुटा रहा है।

यह भी देखें: ‘‘क्राइम ब्रांच गाजियाबाद से हैं तुम्हारे घर में बदमाश छुपा है, बाहर गेट की चाबी दो’’

मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. दीपक ओहरी ने बताया कि गुरुवार और शुक्रवार को डॉक्टरों की टीम इंग्लैंड से वापस लौटे लोगों के पते पर गई। जो लोग गए उनके नमूने जांचे गए। वहीं कई लोग का पता गलत था। कुछ लोग लखनऊ सहित दूसरे जिलों के थे। इस बारे में संबंधित जिलों को जानकारी दे दी गई है। ताकि वहां उनकी जांच की जा सके।