बिकरू कांड: कोर्ट के आदेश पर जय बाजपेई के घर की खुली सील, जानिए पूरा मामला

कानपुर-बिकरू कांड के मुख्य आरोपित विकास दुबे के खजांची जय बाजपेई भी मुकदमे में नामजद थे। पुलिस ने गैंगस्टर एक्ट का प्रयोग करते हुए जय सहित चारो भाइयों की लगभग एक दर्जन संपत्तियों को सील कर दिया था। वहीं कोर्ट के आदेश पर ब्रह्मनगर स्थित घर में लगी सील बुधवार को खोली गई। जिसके बाद पुलिस और मजिस्ट्रेट की मौजूदगी में किराएदार का सामान बाहर निकाला गया। इस दौरान अर्मापुर और नजीराबाद थाना पुलिस बल मौके पर मौजूद रहा। दरअसल जय के ब्रह्मनगर स्थित घर में करीब आधा दर्जन किरायेदार रहते थे। इसमें कार्यवाही के दौरान पुलिस व प्रशासन ने सील लगा दी थी।

उस दौरान किरायेदार अरविंद शर्मा अपना सामान नहीं निकाल सके थे। उनका सामान भी घर में बंद हो गया था। इसके बाद अरविंद शर्मा की पत्नी वर्तिका ने अदालत में गुहार लगाई। अदालत के आदेश पर बुधवार को मजिस्ट्रेट और पुलिस की मौजूदगी में सील खोली गई। इस दौरान अर्मापुर एवं नजीराबाद पुलिस की मौजूदगी में अरविंद शर्मा ने अपना सामान घर से निकाला। दरअसल बिकरू कांड में मुख्य आरोपित विकास दुबे के खजांची जय बाजपेई भी मुकदमे में नामजद है। उसके खिलाफ पुलिस ने करीब 4 महीने पहले गैंगस्टर के तहत कार्रवाई की थी।

जय बाजपेई के अलावा उसके भाई अजय बाजपेई शोभित बाजपेई और रजय बाजपेई को सहयोग अभियुक्त बनाया गया था। पुलिस ने गैंगस्टर एक्ट की धारा 14/1 का प्रयोग करते हुए चारों भाइयों की एक लगभग एक दर्जन संपत्तियों को सील कर दिया था। नजीराबाद सीओ संतोष कुमार सिंह ने बताया कि अदालत के आदेश से किरायेदार का सामान मकान से बाहर निकलवाया गया है। सामान बाहर निकल जाने के बाद मकान को दोबारा सील कर दिया जाएगा।