कृषि कानून पर किसानों का अनोखा विरोध, सिर मुंडवा कर सरकार को दी चेतावनी

बाराबंकी. केंद्र सरकार द्वारा लाये कृषि सुधार कानून को वापस लेने की जिद अब तेज होती जा रही है। बाराबंकी जनपद में किसानों ने सिर मुंडवा कर अपना विरोध दर्ज कराया और चेतावनी दी कि अगर इससे भी सरकार की आंख नहीं खुली तो वह उग्र आंदोलन को बाध्य होंगे। किसानों का सरकार से साफ कहना है कि आप किसानों का हित करने की बात कर रहे हैं कि इससे किसानो का फायदा होगा। मगर जब किसान अपना हित और फायदा नहीं चाहता है, तो जबरन उसे क्यों धकेला जा रहा है।

किसानों ने किया प्रदर्शन

बाराबंकी जनपद में अपने सिर का मुंडन कराकर राष्ट्रवादी किसान क्रांति दल के बैनर तले किसान इकट्ठा हुए। इन किसानो का साफ कहना है कि केंद्र सरकार द्वारा जो किसान सुधार के तीन कानून लाये गए हैं, वह किसानों को बर्बाद कर देंगे। आखिर क्यों नहीं एमएसपी पर संसद में विधेयक लाकर कानून बनाया जा रहा है। सरकार विधेयक लाकर यह कानून पास करे कि एमएसपी से कम पर अगर किसी किसान से खरीद हुयी तो वह सीधा जेल जायेगा। सिर मुंडवा कर हम सरकार को यह संदेश दे रहे हैं कि अगर चेत गए तो चेत गए, अन्यथा हम उग्र आंदोलन को बाध्य होंगे।

सरकार वापस ले कानून

राष्ट्रवादी किसान क्रांति दल के प्रदेश अध्यक्ष रामजी तिवारी ने कहा कि यह केंद्र सरकार की हठधर्मिता है कि काले कानूनों को वापस नहीं ले रही है। अगर उनकी मंशा सही है तो वह एमएसपी पर विधेयक लाकर कानून बनायें कि अगर किसी ने एमएसपी से कम पर खरीद की तो वह सीधा जेल जायेगा और एक किसान आयोग बनायें लेकिन सरकार ऐसा कर नहीं रही है। वह इससे किसानों के हित की बात करती है, लेकिन किसान इसमें अपना कोई कोई हित नहीं देख रहा। तो जबरन यह कानून उसपर क्यों थोपे जा रहे हैं। किसान जब यह चाहता है कि वह कानून को वापस ले लें, इसमें कौन सी दिक्कत है। अभी तो हमने सिर मुंडवा कर शांति का संदेश देकर अपनी बात कही है, लेकिन अगर कानून वापस नहीं हुए तो वह उग्र आंदोलन को बाध्य होंगे।