उत्तर प्रदेश पहुंचा कोरोना का नया स्ट्रेन, दो साल की मासूम में संक्रमण की पुष्टि

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

मेरठ। ब्रिटेन में तहलका मचाने वाला कोरोना का नया स्ट्रेन दो साल के बच्ची में मिलने के बाद मेरठ के अस्पताल में हाईअलर्ट जारी कर दिया गया है। हालांकि बच्ची में स्ट्रेन की जानकारी स्वास्थ्य विभाग को मंगलवार को दिन में ही हो गई थी। लेकिन कोई अधिकारिक पुष्टि नहीं की गई थी। जिसके चलते लोगों में भ्रम की स्थिति बनी रही। देर रात सीएसआईआर से रिपोर्ट हाथ में आने के बाद ही सीएमओ ने इसकी पुष्टि की। वहीं मेरठ के जरिए कोरोना के इस नए स्ट्रेन की प्रदेश मे भी एंट्री हो चुकी है। बताया जा रहा है बच्ची अपने माता पिता के साथ लंदन से लौटी थी।

यह भी पढ़ें: जाति लिखने पर हुआ जुर्माना तो आगबबूला हुआ चालक, बोला- ब्राह्मण ब्राह्मण नहीं लिखवाएगा तो क्या लिखवाएगा

स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक जिस बच्ची में कोरोना का यह स्ट्रेन मिला है, वह अपने परिजनों के साथ गत 14 दिसंबर को मेरठ के टीपीनगर थाना अंतगर्त लल्लापुर में आई थी। सीएसआईआर नई दिल्ली की जांच रिपोर्ट मिलते ही प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग में खलबली मच गई है। प्रदेश में स्ट्रेन-2 की पुष्टि का यह पहला मामला बताया जा रहा है। पुष्टि होते ही सीएमओ, मंडलीय सॢवलांस अधिकारी एवं प्रशासनिक अधिकारियों की टीम ने मरीज के घर एवं कालोनी की घेराबंदी करा दी। बच्ची सुभारती मेडिकल कालेज के अलग वार्ड में भर्ती है, जहां हाईअलर्ट कर दिया गया है। ब्रिटेन से आए संक्रमितों को अलग वार्ड में रखा जा रहा है।

यह भी देखें: मण्डलायुक्त के औचक निरीक्षण में खुली सरकारी कार्यालयों की पोल

बताया जा रहा है कि इस बच्ची के परिवार के तीन अन्य लोगों में भी 25 दिसंबर को कोरोना की पुष्टि हुई थी। 26 दिसंबर को दिल्ली रोड स्थित मोहकमपुर क्षेत्र में एक युवती भी संक्रमित मिली। ब्रिटेन से लौटे चार लोगों का सैंपल जीनोम सिक्वेंसिंग यानी स्ट्रेन-2 की जांच के लिए सीएसआइआर नई दिल्ली की लैब में भेजा गया था। मंगलवार को मिली रिपोर्ट में बच्ची में कोरोना के स्ट्रेन की पुष्टि हुई। डीएम के. बालाजी ने एक बच्ची में कोरोना स्ट्रेन-2 संक्रमण की पुष्टि की है। उन्होंने बताया कि जो भी लोग ब्रिटेन से आए हैं सभी निगरानी में हैं और सभी स्वस्थ हैं। बच्ची को सुभारती में भर्ती किया गया है। जहां चिकित्सकों की कई टीमें उसका इलाज कर रही है। वहीं दिल्ली से भी एक टीम आई है, जो कि बच्ची की जांच करेगी।