हिंदू-मुस्लिम नहीं, शिक्षा और रोजगार जैसे मुद्दों पर लड़ेंगे आगामी विस चुनाव : ओम प्रकाश राजभर

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
लखनऊ. उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव से पहले छोटे दलों की एका बड़े-बड़े दलों की नींद उड़ा रही है। सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (सुभासपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष ओम प्रकाश राजभर ने 9 छोटे-छोटे दलों को मिलाकर संयुक्त भागीदारी मोर्चा तैयार किया है। उनके साथ हैदराबाद से सांसद असदुद्दीन ओवैसी की एआईएमआईएम भी है। आगामी विधानसभा चुनाव से पहले ओवैसी से हाथ मिला लेने के सवाल पर पूर्व मंत्री ओम प्रकाश राजभर कहते हैं कि भारतीय जनता पार्टी और कश्मीर में महबूबा मुफ्ती से हाथ मिला ले तो ठीक? मुसलमान कांग्रेस और सपा-बसपा के साथ रहे तो ठीक, लेकिन अगर मुसलमान ओवैसी के साथ रहकर शिक्षा, स्वास्थ्य और नौकरी की बात करे तो क्या वह देशद्रोही हो जाएगा? जिसको जो कहना है वो कहता रहे, लेकिन 2022 में हिंदू-मुस्लिम नहीं शिक्षा, रोजगार, स्वास्थ्य और घरेलू बिजली बिल माफी के सवाल पर चुनाव लड़ेंगे। ओम प्रकाश राजभर ने कहा कि सपा, बसपा और कांग्रेस ने केवल मुसलमानों का इस्तेमाल किया है, जब भी उनको अधिकार देने की बात आई तो यह लोग मुकर गए हैं।

लव जिहाद कानून को संवैधानिक अधिकारों पर चोट बताते हुए राजभर ने कहा कि 2022 में उत्तर प्रदेश में सरकार बनाकर इस कानून को खत्म कर देंगे। कहा कि संविधान के मुताबिक, जो भी व्यस्क है, जाति-धर्म के परे उसको जीवन साथी चुनने का अधिकार है। राजभर ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी सिर्फ नफरत और झगड़ा पैदा करने तथा दंगा फैलाने के लिए कानून लाती है। हाल ही में आये तीन कृषि कानून इसका उदाहरण हैं।


यह भी पढ़ें : यूपी पंचायत चुनाव- ग्राम प्रधान के चुनाव में सीधे उतरने में डर रहे राजनीतिक दल