दुखद : मेरठ में खड़े ट्रैक्टर-ट्राली से टकराई बाइक, पार्टी से लौट रहे तीन दोस्तों की मौत

पत्रिका न्यूज़ नेटवर्क
मेरठ ( meerut news ) जन्मदिन की पार्टी मनाकर देर रात अपने गांव अतराडा लौट रहे बाइक सवार तीन दोस्तों की सड़क हादसे में मौत हो गई। हादसा ( meerut road accident ) इतना जबरदस्त था कि पल भर में तीनों ने दम ( dath ) तोड़ दिया। इस दुर्घटना के बाद से तीनों के परिवार में कोहराम मचा हुआ है।

यह भी पढ़ें: Weather Alert: तापमान ने तोड़ दिया 16 वर्ष का रिकॉर्ड, नए साल पर दिखेगा ठंड का प्रकोप

यह दर्दनाक हादसा थाना खरखौदा क्षेत्र के हापुड़-किठौर मार्ग पर देर रात हुआ। तेज रफ्तार बाइक सड़क पर खड़ी सीमेंट से भरी ट्रैक्टर-ट्राली से टकरा गई। जिस समय हादसा हुआ उस दौरान बाइक की रफ्तार 70 के आसपास होने की आशंका जताई जा रही है। हादसे में बाइक सवार अतराड़ा निवासी तीन दोस्तों की मौत हो गई। तीनों हापुड़ में दोस्त की जन्मदिन पार्टी से गांव लौट रहे थे। हादसे के वक्त कोहरा भी था। पुलिस ने तीनों के शव पोस्टमार्टम के लिए भेज पाए हैं।

यह भी पढ़ें: Countdown 2020: कमिश्नरेट लागू होने पर गंभीर अपराधों में कमी, लेकिन बढ़ गए ये क्राइम, देखें पूरी लिस्ट

अतराड़ा निवासी देवेंद्र मोहिउद्दीनपुर गन्ना समिति के चेयरमैन हैं। उनका 22 वर्षीय भतीजा निखिल उर्फ छोटू पुत्र राकेश अपने साथी 18 वर्षीय मनीष पुत्र देवराज और 32 वर्षीय प्रदूमन पुत्र पारसी हापुड़ में अपने दोस्त की जन्मदिन पार्टी में गए थे। तीनों एक ही बाइक से गांव लौट रहे थे। देर रात करीब साढ़े दस बजे जब वह गांव से कुछ ही पहले हापुड़-किठौर मार्ग पर मोड़ पर पहुंचे तो वहां सड़क पर खड़ी सीमेंट से भरी ट्रैक्टर ट्राली से भीषण टक्कर हो गई। बाइक ट्राली के नीचे घुस गई। हादसा इतना भीषण था कि तीनों की मौके पर ही मौत हो गई।

यह भी पढ़ें: Moradabad: समोसे खाने से एक बच्चे की मौत, दो दर्जन से ज्यादा बीमार

हादसे के बाद चींख पुकार मच गई। मौके पर पहुंची पुलिस की मदद से तीनों को अस्पताल ले जाया गया जहां पर तीनों को मृत घोषित कर दिया गया। तीनों के परिजन भी घटना की जानकारी के बाद मौके पर पहुंच गए। पुलिस ने ट्रैक्टर ट्राली को कब्जे में लेते हुए तीनों के शव पोस्टमार्टम के लिए भिजवाए। इंस्पेक्टर खरखौदा ऋषिपाल सिंह ने बताया कि बाइक सवारों ने हेलमेट नहीं लगाया था। मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। जहां पर हादसा हुआ वहां पथ प्रकाश की व्यवस्था नहीं है। तीनों में निखिल पढ़ाई पूरी करने के बाद नौकरी की तलाश कर रहा था जबकि प्रद्यूमन फोटोग्राफर था और मनीष माता का जागरण करता था।