पोषण सेवाओं की उपलब्धता से महिलाओं के स्वास्थ्य में सुधार होगा: सांसद

बाराबंकी. खान-पान एवं पोषण सेवाओं की उपलब्धता से महिलाओं के स्वास्थ्य स्तर में सुधार होगा, पोषण स्तर सुधारने के लिए प्रत्येक परिवार को पोषण वाटिका तैयार करना चाहिए। जिससे बिना रासायनिक प्रयोग वाली ताजे फल व सब्जियां मिल सकें। यह बातें सांसद उपेन्द्र सिंह रावत ने सांसद आदर्श ग्राम शाहपुर कड़ेरा में नई रोशनी योजनान्तर्गत बेसिक उत्थान एवं ग्रामीण सेवा संस्थान, द्वारा आयोजित अल्पसंख्यक महिलाओं का छह दिवसीय नेतृत्व विकास प्रशिक्षण के पांचवे दिन के अवसर पर व्यक्त किये।

जिलाधिकारी डा आदर्श सिंह एवं उपजिलाधिकारी अभय कुमार पाण्डेय, जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी सोन कुमार ने संयुक्त रूप से दीप प्रज्जवलित कर सत्र का शुभारम्भ किया और प्रतिभागियों को प्रतिभागिता का प्रमाण पत्र वितरित किए। सांसद ने कहा कि महिलाओं के ऊपर ही पूरे परिवार के पोषण स्वास्थ्य की जिम्मेदारी होती है यदि महिला अपने व अपने बच्चों के स्वास्थ्य और पोषण के प्रति जागरूक है तो वह पूरे परिवार को स्वस्थ्य रख सकती है।

डीएम ने लिया फीडबैक

जिलाधिकारी ने प्रतिभागियों से प्रशिक्षण में सीखी गई बातों को पूछा और फीडबैक लेते हुए कहा कि जो भी जानकारी प्राप्त की जाय उसे व्यवहार में लाना ही बदलाव है। जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी ने नई रोशनी योजना के उद्श्यों को बताया और कहा कि योजना की मंशा है कि सरकार की योजनाओं को अधिक से अधिक महिलाएं जानें और उससे जुड़ें, उनमें एक नेतृत्व का विकास हो, इस कार्य में योजना पूरी तरह सफल साबित हो रही है।

योजनाओं की दी जानकारी

अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी ने विभाग द्वारा चलाई जा रही अन्य योजनाओं को भी बताया। संस्थान के अध्यक्ष व चाइल्ड लाइन के निदेशक रत्नेश कुमार ने बताया कि पांच दिनों में बेहतर स्वास्थ्य, परिवार सुरक्षा, परिवार कल्याण और सरकार द्वारा चलाई जा रही योजनाओं के बारे में प्रतिभागियों को बताया गया है, जो काफी हद तक महिलाओं ने समझा है। सीखी गई बातों को व्यवहार में लाने के लिए प्रशिक्षण के बाद भी फालोअप किया जायेगा।

आडियो-वीडियो से समझाया

प्रशिक्षक जियालाल, जीनत बेबी, गुड़िया, पंकज एवं अमृता शर्मा ने महिलाओं को आडियो-वीडियो के द्वारा रोचक विधि से प्रतिभागियों को समझाया। सांसद एवं जिलाधिकारी ने प्रतिभागी अफ्साना, नूरजहां, जुवेदा,नूरसबा बानो, ज्योति समसुल निशा को अपने हाथों से प्रमाण पत्र दिया, इन प्रतिभागियों ने प्रशिक्षण में सीखी गई जानकारियों को सांसद एवं जिलाधिकारी के समक्ष बताया। इस अवसर ग्राम प्रधान राम उदित रावत सहित तमाम ग्रामीण महिलाएं उपस्थित रहीं।