मध्य प्रदेश में शिवराज सरकार भी लाई लव जेहाद के खिलाफ कानून, ये हैं प्रावधान

देश में इधर कुछ समय से लव जेहाद को लेकर काफी ज्यादा बवाल मचा हुआ है. हर तरफ धर्म परिवर्तन करके शादी करने का चलन बनता जा रहा था. जिसके बाद से राज्य सरकारों ने इस पर कानून बनाने का ऐलान कर दिया. उसके बाद से विपक्ष का विधवा विलाप एक बाऱ फिर से शूरु हो गया है. लव जेहाद पर यूपी, मध्य प्रदेश हरियाणा लव जेहाद पर कानून लायेगा. इसके आलावा बीजेपी शासित राज्य भी इस कानून को लाने के बारे में विचार कर रहे हैं.

लव जेहाद पर यूपी के बाद अब मध्य प्रदेश की शिवराज सरकार ने लव जिहाद विरोधी विधेयक ‘धर्म स्वातंत्र्य विधेयक 2020’ को कैबिनेट की मंजूरी मिल गई है.  नए कानून में कुल 19 प्रावधान हैं, जिसके तहत अगर धर्म परिवर्तन के मामले में पीड़ित पक्ष के परिजन शिकायत करते हैं तो पुलिस उनके खिलाफ कार्रवाई करेगी. अगर किसी शख्स पर नाबालिग, अनुसूचित जाति/जनजाति की बेटियों को बहला फुसला कर शादी करने का दोष सिद्ध होता है तो उसे 10 साल तक कि सजा दी जाएगी. अगर कोई शख्स धन और संपत्ति के लालच में धर्म छिपाकर शादी करता हो तो उसकी शादी शून्य मानी जाएगी.

इन सबके बीच मध्य प्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्र ने कहा है कि ‘हमने अपने प्रदेश में देश का सबसे बड़ा कानून बनाया है. अब इस विधेयक को विधानसभा में लाया जाएगा’. 28 दिसंबर से मध्य प्रदेश विधानसभा का सत्र प्रस्तावित है. लव जेहाद करने वाले लोगों पर लगाम लगाने के लिए राज्य सरकार अपने अपने हिसाब से कदम उठा रही है जो की एक अच्छी पहेल है.