हाथरस केस में हुआ एक बड़ा खुलासा, कॉल डिटेल से सामने आया ये सच,जानिए क्या है सच

उत्तर प्रदेश की राजनीति में तहलका मचा देने वाले हाथरस केस में CBI ने चार्जशीट दाखिल कर दी. CBI ने अपनी चार्जशीट में गैं’गरे’प और उसके बाद ह’त्या का केस बनाया है. सीबीआई ने ये चार्जशीट पीडिता के आखिरी बयान के आधार पर तैयार की है और इसी आधार पर चार लोगों को आरो’पी बनाया गया है.

गौरतलब है कि 14 सितंबर को पीडिता के साथ कथित तौर पर गैं’गरे’प किया गया था. शुरूआती बयान में आपसी रं’जि’श के तहत मा’रपी’ट के आरो’प लगाये गए थे. मगर 9 दिनों बाद दिए अपने बयान में पीडिता ने गैं’गरे’प की बात कही. पीड़िता के इसी आखिरी बयान के बाद राज्य में राजनीति काफी तेज हो गई.

सूत्रों की माने तो ‘सीबीआई के आ’रोप पत्र में कई और अहम तथ्य सामने आए हैं’ इसमें यह भी उजागर हुआ है कि मृ’त’का के संदीप के साथ रिश्ते थे. दोनों में फोन पर बात होती थी. हालांकि, बिटिया के परिजनों ने इससे इनकार किया है. तीन दिन पहले सीबीआई ने विशेष न्यायालय एससी-एसटी कोर्ट में बिटिया के साथ हुई घटना में चारों आ’रोपि’यों संदीप, रवि, रामू और लवकुश के खिलाफ (धारा 376, 376 ए,376 डी.302 व 3(2)(5) एससी-एसटी एक्ट के तहत) आरो’प पत्र दाखिल किया है.’ इस केस में सीबीआई ले ये खुला’सा किया है कि संदीप और पीडिता के खिलाफ संबंध थे और इन दोनो का घर आस पडोस था. इतना ही नही पिता की सीडीआर खंगालने के बाद पता चला कि पीडिता औऱ संदीप की बात होती थी.