नए साल के जश्न में भी न करें कोरोना प्रोटोकॉल की अनदेखी, रखें ये खास सावधानी

बाराबंकी. कोविड-19 का खतरा अभी टला नहीं है, इसलिए जरूरी प्रोटोकाल का पालन करना आज भी उतना ही जरूरी है, जितना नौ महीने पहले था। कोशिश हो कि जिस स्थल पर समारोह हो रहा है, वहां पर उतनी ही संख्या में लोगों को प्रवेश दिया जाए जिससे कि लोगों में उचित दूरी का पालन हो सके। नए साल के स्वागत समारोहों व पार्टी आयोजकों से लेकर उसमें शामिल होने वालों तक को भी हर कदम पर स्वस्थ स्वास्थ्य व्यवहार अपनाने की सख्त जरूरत है। सरकार द्वारा भी इन आयोजनों को लेकर दिशा निर्देश जारी किये गए हैं, जिसका पालन करते हुए ही कोई कार्यक्रम आयोजित करना सभी की भलाई के लिए जरूरी है। मालूम हो कि स्थानीय जनपद में मंगलवार को 10 और लोग नये कोरोना संक्रमित पाये गये है जिससे अब कोविड19 के कुल केस की संख्या 7665 हो गई है। साथ ही सक्रिय केस 72 है। वहीं कोरोना के कारण 67 लोगों ने दम तोड़ दिया है।

मुख्य चिकित्साधिकारी डा बीकेएस चौहान का कहना है कि कोविड से सभी को सुरक्षित करने के लिए जरूरी है कि समारोह या पार्टी स्थल पर प्रवेश एवं निकास के लिए अलग-अलग द्वार हों, कार्यक्रम स्थल पर पर्याप्त क्रास वेंटिलेशन होना चाहिए। प्रवेश द्वार पर सेनेटाइजर की व्यवस्था हो, कार्यक्रम स्थल पर केवल बिना लक्षण वाले स्टाफ एवं आगंतुकों को प्रवेश दिया जाए। यदि किसी में बीमारी के लक्षण नजर आते हैं तो उसके साथ ही अन्य की सुरक्षा की दृष्टि से प्रवेश न दिया जाए और चिकित्सीय सहायता की सलाह दी जाए। स्टाफ व आगंतुकों को फेस कवर या मास्क पहनना अनिवार्य होगा और एक-दूसरे से दो गज की दूरी बनाकर रखनी होगी। यह सभी पालन पार्किंग स्थल और स्टाल पर भी करना होगा। धार्मिक आयोजन स्थलों पर जहाँ तक संभव हो जूते-चप्पल गाड़ी में ही उतारकर कार्यक्रम स्थल पर जाएँ या तो प्रवेश द्वार के निकट हर परिवार के जूते-चप्पल अलग अलग स्लाट में रखे जाएँ। कार्यक्रम स्थल पर कोरोना से बचाव सम्बन्धी पोस्टर, स्टैंडी एवी मीडिया प्रमुख रूप से लगायी जाएं।

सीएमओ ने सभी वर्ग से आह्वान किया है कि इस बार त्योहारों और नए साल के जश्न को घर पर ही परिवार के साथ मनाएं और खुद सुरक्षित रहने के साथ दूसरों को भी सुरक्षित बनायें।

कोरोना संक्रमण काल में यह जरूरी उपाय अपनाएं

- सार्वजनिक स्थानों पर एक दूसरे से दो गज की दूरी रखें और मास्क जरूर पहनें।

- साबुन से 40 सेकंड तक हाथ धोएं या सेनेटाइज करें।

- श्वसन सम्बन्धी स्वच्छता का कड़ाई से पालन करें।

- टिश्यू पेपर का उचित तरीके से डस्टबिन में ही निस्तारण करें।

- सार्वजनिक स्थलों पर थूकने से पूरी तरह से बचें।

- अब भी सभी लोग आरोग्य सेतु एप का इस्तेमाल करें।