पूरा करना चाहते हैं अपना घर का सपना तो इस योजना में करें आवेदन, कम पैसों में पूरी होगी अपने घर की ख्वाहिश

लखनऊ. अपना घर होने का सपना हर किसी को होता है। लेकिन नौकरी के कारण अक्सर कई लोग किराए के मकान में रह कर अपना जीवन यापन करते हैं। तो वहीं कुछ लोग किसी अन्य कारण की वजह से अपना घर नहीं बनवा पाते हैं। लोगों की इस परेशानी को दूर करने के लिए मोदी सरकार ने प्रधानमंत्री आवास योजना की शुरुआत की है। घर खरीदने या घर की तलाश में रहने वाले लोगों की मदद के लिए पीएम आवास योजना (PM Awaas Yojana) चलाई जा रही है। इस योजना का लाभ लेने के लिए आपको ज्यादा मेहनत करने की जरूरत नहीं है। इसकी आवेदन प्रक्रिया बेहद सरल है। पीएम आवास योजना में आवेदन के लिए आप स्थानीय सहज सेवा केंद्र के माध्यम से या खुद ही ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं। इसके अलावा आप ऐप और ऑफिशियल वेबसाइट पर जाकर भी आवेदन कर सकते हैं।

आवेदन की प्रक्रिया

- सबसे पहले आवास मोबाइल एप्लीकेशन (Awaas App) डाउनलोड करें।

- ऐप डाउनलोड करके लॉग इन करें।

- इसके बाद मांगी गई जानकारी को भरकर आवेदन कर सकते हैं।

साइट पर इस तरह करें आवेदन

- सबसे पहले ऑफिशियल वेबसाइट पर जाएं।

- वेबसाइट के ऊपर आपको 'Citizen Assessment' के ऑप्शन पर क्लिक करें।

- यहां आपको कई ऑप्शन मिलेंगे. आप अपने रहने के हिसाब विकल्प का चयन करें।

- इसके बाद आपको आधार नंबर भरना होगा और चेक पर क्लिक करना होगा।

- इसके बाद एक ऑनलाइन फॉर्म खुलेगा।

- फॉर्म में मांगी गई जानकारी भरें।

- आवेदन को पूरा भरने के बाद उसे सब्मिट कर दें। सब्मिट करने के बाद आपकी स्क्रीन पर एक आवेदन क्रमांक नंबर मिलेगा। इसका प्रिंट निकालकर भविष्य के लिए सुरक्षित कर लें।

मकान की रकम का भुगतान

आवेदन के साथ आवेदकों को 5000 रुपये की पंजीकरण धनराशि देनी होगी। वहीं 30 दिन के अंदर एकमुश्त 45000 रुपये जमा करने होंगे। बाकी रकम यानि 3 लाख रुपये 12 तिमाही किश्तों में चुकानी होगी।

कहां मिलेंगे मकान

ये योजना उत्तर प्रदेश आवास विकास परिषद द्वारा शहरी क्षेत्र के लिए प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत लाई गई है। योजना के अंदर लखनऊ, हाथरस, मैनपुरी, मुरादाबाद, इटावा, फतेहपुर, बांदा, कानपुर देहात, कन्नौज, उन्नाव, हरदोई, रायबरेली, गाजियाबाद, गोण्डा, बहराइच, मऊ, बलरामपुर, बाराबंकी, और मेरठ में फ्लैट या घर दिए जाएंगे।

ये भी पढ़ें: बिजनेस के लिए यूपी सरकार बांट चुकी है 22,800 करोड़ एमएसएमई लोन, बैंकों को नहीं हो रही परेशानी