कृषि कानून के खिलाफ खून से बैनर लिख सड़क पर उतरे सपाई

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
आजमगढ़. केंद्र सरकार के नए कृषि कानून का विरोध थमने का नाम नहीं ले रहा है। समाजवादी युवजन सभा के प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य लालजीत यादव क्रांतिकारी ने खून से बैनर लिखकर कप्तानगंज क्षेत्र के चरौवा गांव में प्रदर्शन किया। इस दौरान उन्हें किसानों का जबरदस्त समर्थन मिला। इस दौरान केंद्र सरकार द्वारा कानून वापस न लेने पर आर-पार की लड़ाई का अह्वान किया गया।

कानून को लेकर किसानों में भारी गुस्सा दिखा। लोगों ने इसे किसान विरोधी करार दिया और केंद्र सरकार पर किसानों की अनदेखी तथा उत्पीड़न का आरोप लगाया। किसान समाजवादी युवजन सभा के नेता लालजीत के खून से लिखे बैनर को लेकर प्रदर्शन करते नजर आये।

किसानों ने सरकार को चेताया कि जब तक नए कृषि कानून वापस नहीं लिया जाता आंदोलन चलता रहेगा। समाजवादी पार्टी के लोग गांव-गांव घर-घर जाकर लोगों को नए कृषि कानून के बारे में जानकारी देंगे। उन्हें बताया जाएगा कि भाजपा सरकार किसान विरोधी है। किसान विरोधी कानून लाकर जनता को परेशान कर रही है।

लालजीत यादव ने कहा कि सरकार की मंशा किसानों को बंधुआ मजदूर बनाना है और पूंजीपति वर्ग को फायदा पहुंचाना है। सरकार की मनमानी हम बर्दाश्त नहीं करेंगे। जरूरत पड़ी तो समाजवादी नेता दिल्ली जाकर सरकार को घेरने का काम करेंगे। विरोध प्रदर्शन करने वालों में विशाल यादव, कौशल्या देवी, धनौती देवी, धुपा देवी, कलावती देवी, शैलेंद्र यादव, अशोक यादव, रामबृक्ष राम यादव, राहुल, वीरेंद्र प्रजापति, संतोष, अभिषेक आदि शामिल थे।

BY Ran vijay singh