उत्तर प्रदेश का कानपुर इस मामले में पहुंचा दूसरे स्थान पर

कानपुर. एक समय का मैनचेस्टर कहा जाने वाला शहर आज प्रदूषण के मामले में टॉप टू में शामिल हो गया है। यहां की एयर क्वालिटी इंडेक्स 400 को पार कर गई है। ऐसे में देश का दूसरा सबसे प्रदूषित शहरों में कानपुर की गिनती हो रही है। जबकि नंबर वन पर मुरादाबाद शहर है यहां की एयर क्वालिटी इंडेक्स 476 है। इसका मुख्य कारण वाहनोंं का कब बढ़ता काफिला बताया जा रहा है। फिलहाल स्थिति खतरनाक स्टेज पर पहुंच चुकी है।

दिल्ली की जगह कानपुर की होगी चर्चा

प्रदूषण शहरों में दिल्ली की अक्सर चर्चा होती है यहां की हवा को शुद्ध बनाए रखने के लिए आसपास के राज्यों पर भी निगरानी रखी जाती है परंतु कानपुर महानगर को देश में दूसरा सबसे बड़ा प्रदूषित शहर के रूप में गिनती हो रही है। सर्दी के मौसम में जब चारों तरफ सन्नाटा पसरा है। ऐसे में एयर क्वालिटी इंडेक्स का स्तर इस रूप में आना आश्चर्यजनक है। प्रदूषण विभाग के अनुसार कानपुर का पीएम 2.5 की मात्रा 450 माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर से अधिक नापा गया है। या स्थिति काफी डेंजरस होती है। 2.5 पीएम की मात्रा बताती है कि जनपद में सांस लेना मुश्किल है। इसके अतिरिक्त अन्य कई खतरनाक रसायनिक तत्व मानक से अधिक हवा में घुले हुए हैं। दिन में कार्बन मोनो ऑक्साइड सल्फर डाइऑक्साइड नाइट्रोजन डाइऑक्साइड शामिल है। इस संबंध में बातचीत करने पर किदवई नगर निवासी संजीव त्रिवेदी ने बताया कि कोविड-19 काल में यह स्थिति काफी गंभीर है।