दिल्ली की तरह यहां तेज हुआ किसान आंदोलन, टोल प्लाजा घेर किसानों ने पुलिस से की धक्का मुक्की

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
आजमगढ़. कृषि कानून को लेकर किसानों द्वारा किये जा रहे आंदोलन की तपिश अब यहां भी महसूस होने लगी है। दिल्ली की तरह ही आजमगढ़ के किसानों ने भी अतरौलिया के लोहरा में टोल प्लाजा का घेराव कर नेशनल हाइवे जाम कर दिया। जाम हटवाने पहुंची पुलिस के साथ किसानों ने जमकर धक्का-मुक्की की। किसानों का उग्र रूप देख आजमगढ़ पुलिस को अंबेडकर नगर पुलिस की मदद लेनी पड़ी। इस दौरान किसानों ने एसडीएम को 11 सूत्रीय मांगों का ज्ञापन सौंपा और मांग पूरी न होने पर बड़े आंदोलन की चेतावनी दी।

साकेत महाविद्यालय के पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष फूलचंद यादव के नेतृत्व में सैकड़ों किसान टोल प्लाजा पर पहुंचे। इस दौरान किसानों ने सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। टोल जाम करने कोशिश में दो बार पुलिस और किसान आमने-सामने हुए। किसानों को पुलिस और पीएसी के जवानों ने जाम करने से रोक दिया। दो बार किसानों ने जाम करने की कोशिश की, लेकिन पुलिस ने उन्हें पीछे खदेड़ दिया। इस दौरान जमकर धक्का-मुक्की भी हुई। इस दौरान किसानों ने ट्राली का मंच बनाकर सड़क के किनारे ही अपनी सभा शुरू कर दी।

फूलचंद यादव ने कहा कि केंद्र व प्रदेश की भाजपा सरकार पूरी तरह किसान विरोधी है। सरकार ने नया कृषि कानून बनाकर किसानों को बंधुआ मजदूर बनाने का काम किया है। सरकार को अपने कदम पीछे खींचने होंगे नही ंतो किसान सड़क से संसद तक संघर्ष के लिए तैयार है।

बता दें कि फूलचंद यादव के नेतृत्व में दो दिन पहले ही टोल प्लाजा पर जाम करने की चेतावनी दी गई थी। इसे लेकर रविवार सुबह से ही यहां पर पुलिस के साथ ही पीएसी के जवानों की तैनाती कर दी गई थी। आजमगढ़ के साथ ही अंबेडकरनगर जनपद की पुलिस व पीएसी डटी रहने के कारण किसान अपने मंसूबे में सफल नहीं हुए।

BY Ran vijay singh