Shocking: एक घंटे पहले जन्मी मासूम को नर्स ने रूम हीटर के आगे लिटाया, दोनों पैर झुलसे

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

अमरोहा. सरकारी अस्पताल में गंभीर लापरवाही का एक ऐसा मामला सामने आया है, जिसे सुन किसी का भी दिल दहल सकता है। आरोप है कि सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र (CHC) में एक नवजात बच्ची (New Born Girl) ने जन्म लिया था, लेकिन जन्म लेने के एक घंटे बाद ही नर्स बच्ची को रूम हीटर (Room Heater) के सामने लिटाकर चली गई। बच्ची के जोर-जोर से रोने की आवाज सुन उसकी दादी मौके पर पहुंची तो देखा कि नवजात के पैर बुरी तरह झुलस चुके थे। अब पीड़ित परिवार बच्ची का इलाज एक निजी चिकित्सक से करा रहा है। नवजात के पिता ने सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र की नर्स के खिलाफ कार्रवाई की मांग को लेकर पुलिस थाने में तहरीर दी है।

यह भी पढ़ें- यूपी के शामली में शराब के लिए पिता ने कर दी डेढ़ माह के बेटे की हत्या

दरअसल, यह घटना 27 दिसंबर की है। अमरोहा (Amroha) के हसनपुर थाना क्षेत्र के राजपूत कॉलोनी के रहने वाले शिवेंद्र शर्मा की पत्नी साक्षी शर्मा ने 27 को सीएचसी में एक नवजात बच्ची को जन्म दिया था। परिजनों का आरोप है कि जन्म लेने के एक घंटे बाद ही सर्दी लगने की बात कहते हुए नर्स ने नवजात को रूम हीटर के आगे लिटा दिया और खुद कहीं चली गई। थोड़ी देर बाद ही बच्ची जोर-जोर से रोने लगी तो शिवेंद्र की मां मौके पर दौड़ते हुए पहुंचीं। उन्होंने बच्ची का हाल देखा तो उनके होश उड़ गए। हीटर से बच्ची के दोनों पैर बुरी तरह झुलस चुके थे। इसके बाद परिजन आनन-फानन में बच्ची को एक निजी चिकित्सक के पास ले गए। जहां इलाज के बाद बच्ची की हालत में सुधार आने पर बुधवार को शिवेंद्र शर्मा ने थाने में तहरीर देकर नर्स के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है। इसके साथ ही सीएमओ को भी एक पत्र भेजकर कार्रवाई की मांग की है।

इस संबंध में कोतवाली प्रभारी निरीक्षक नीरज कुमार ने बताया कि बच्ची के पिता की तहरीर मिली है। फिलहाल पुलिस मामले की जांच कर रही है। जांच के बाद आरोपी के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। उधर, सीएचसी प्रभारी डॉ. अमित बरू का कहना है कि मामले में जांच कराई जा रही है। वहीं, सीएमओ अमरोहा डॉ. सौभाग्य प्रकाश ने बताया कि सीएचसी हसनपुर में नवजात बच्ची के पैर झुलसने का मामला संज्ञान में आया है। इस प्रकरण में गंभीरता से जांच कराई जा रही है। आरोपी के खिलाफ कड़ी कार्रवाई होगी।

यह भी पढ़ें- जिम्स में खुलेगी प्रदेश की पहली जीनोम सीक्वेंसिंग लैब, कोरोना के नए स्ट्रेन पर होगा शोध