भाकियू नेता का ऐलान, कहा- 26 जनवरी को राजपथ पर एक तरफ टैंक तो दूसरी ओर चलेंगे ट्रैक्टर

बागपत. नए कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों का आंदोलन डेढ़ महीने से जारी है। सिंधु बॉर्डर, गाजीपुर बॉर्डर, चिल्ला बॉर्डर और बड़ौत में दिल्ली-सहारनपुर हाईवे पर किसान धरने पर बैठे हैं। बड़ौत में धरने पर बैठे किसानों को भाकियू के प्रवक्ता राकेश टिकैत ने कहा कि 26 जनवरी को राजपथ पर होने वाली गणतंत्र दिवस की परेड में एक तरफ जहां टैंक तो दूसरी ओर किसानों के ट्रैक्टर चलेंगे। इस बार किसान धूमधाम से राजपथ पर गणतंत्र दिवस मनाएंगे। उन्होंने कहा कि यह देश किसानों का है। किसान के उगाए अन्न से ही देशवासियाें का पेट भरता है और देश की सुरक्षा भी किसानों के बेटे करते हैं।

यह भी पढ़ें- नाेएडा के चिल्ला बॉर्डर पर चल रहा किसानाें का दंगल, देखें वीडियो

किसानों के बीच पहुंचे राकेश टिकैत ने केंद्र सरकार को ललकारते हुए कहा कि अब किसान दिल्ली में आर-पार की लड़ाई के लिए तैयार हैं। उन्होंने कहा कि 26 जनवरी को यदि सरकार किसानों पर वाटर कैनन और लाठियाें का इस्तेमाल करेगी तो हम राष्ट्रगान गाएंगे। फिर देखते हैं कि पुलिस राष्ट्रगान गाने वालों पर कैसे बल प्रयोग करती है। इस दौरान उन्होंने किसानों से एकजुट होने का आह्वान करते हुए कहा कि इस क्रांति में में पूरी ताकत लगानी होगी।

उन्होंने कहा कि सरकार के इशारे पर प्रशासन धरना देने वाले किसानों पर दबाव बनाने के लिए केस दर्ज कर रहा है। इसलिए अब लठ उठाने का समय आ गया है। करनाल में किसानों पर लाठीचार्ज को लेकर उन्होंने कहा कि अभी सरकार से किसानों ने सत्ता छोड़ने को नहीं कहा है। अगर हम जिद पर अड़े तो सत्ता भी छुड़वा देंगे। इसलिए किसानों की परीक्षा लेनी सरकार बंद करे।

इस दौरान नौजवान भारत के कार्यकर्ताओं ने नए कृषि कानूनों के खिलाफ बाइक रैली भी निकाली। बाइक रैली हाइवे के विभिन्न मार्गों पर पड़ने वाले गांवो से होते हुए गाजीपुर बॉर्डर जाकर संपन्न हुई। इस रैली का नेतृत्व राष्ट्रीय अध्यक्ष सुबोध सिंह ने किया। बता दें कि किसानों को समर्थन देने वाली चौगामा खाप के चौधरी कृषिपाल राणा भी किसानों के साथ धरना स्थल पर पहुंचे। जहां उन्होंने किसानों को लड्डू बांटे।

यह भी पढ़ें- प्रदेश अध्यक्ष लल्लू का बड़ा बयान, मोदी और योगी सरकार को जगाएगी कांग्रेस, 15 जनवरी को राजभवन का करेंगे घेराव



Advertisement