साल के आखिरी दिन दर्दनाक हादसा, मिट्टी में दबने से 3 बच्चों की मौत, 5 को बचाया गया

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

आगरा। साल 2020 के अंतिम दिन यानि 31 दिसंबर की शाम को थाना सिकंदरा के रुनकता गांव में एक दर्दनाक हादसा हो गया। जिसमें तीन बच्चों की मौत हो गई, जबकि 5 को समय रहते बचा लिया गया। दरअसल, एक तालाब की खुदाई के दौरान मिट्टी की ढांग ढहने से उसमें कई बच्चे दब गए। बताया जा रहा है कि यह हादसा उस वक्त हुआ जब तालाब के पास दर्जनभर बच्चे खेल रहे थे। आसपास के लोगों ने इसकी सूचना पुलिस-प्रशासन को दी। मौके पर पहुंची टीम ने रेस्क्यू ऑपरेशन चलाया। जिसमें आठ बच्चों को मिट्टी हटाकर बाहर निकाला गया। इनमें से एक ही मौके पर ही मौत हो गई, जबकि एक बच्ची समेत दो ने इलाज के दौरान दम तोड़ दिया। वहीं अन्य बच्चों की हालत ठीक बताई जा रही है।

यह भी पढ़ें: IAS की तैयारी कर रहे छात्र की पुलिस काे चेतावनी, बाेला सुशांत सिंह की तरह फांसी लगा लूंगा

जानकारी के अनुसार ग्राम प्रधान द्वारा गांव स्थित पुराने तलाब की खुदाई का काम कराया जा रहा है। यह कार्य तीन दिन पहले शुरू हुआ था और तालाब में जेसीबी मशीन से खुदाई चल रही है। बस्ती के दर्जनभर बच्चे तालाब वाली जगह पर खेलने गए थे। इस दौरान अचानक मिट्टी की ढांग भरभराकर उनके ऊपर गिर गई। इस दौरान मोहल्ले की एक महिला ने यह देख शोर मचाया। जिसके बाद मौके पर ग्रामीण पहुंचे और पुलिस प्रशासन को इसकी जानकारी दी। मौके पर कई थानों की फोर्स पहुंची और बचाव कार्य शुरू किया।

सिकंदरा थाना प्रभारी अरविंद कुमार ने जानकारी देते हुए बताया कि हादसे में तीन बच्चों की मौत हुई है। जिनके नाम राधा (10) पुत्री जितेंद्र, सोनल (06) पुत्र हरिओम और दक्ष (05) पुत्र कप्तान है। इन तीनों बच्चों के शवों को पोस्टमार्टम हाउस भेजा गया है। वहीं पांच बच्चों को रेस्क्यू किया गया है। जिनमें से कप्तान के बेटे अनिकेत, देव पुत्र दीपक, सारिक पुत्र जितेंद्र का अस्पताल में इलाज चल रहा है। जबकि अंशु पुत्र पप्पू की हालत ठीक थी। उसे प्राथमिक उपचार के बाद छुट्टी दे दी गई।

यह भी देखें: गोली से डर लगता है साहेब

प्रधान पर लगे लापरवाही के आरोप

हादसे की सूचना मिलने पर पूर्व विधायक सूरजपाल सिंह भी मौके पर पहुंचे। यहां आउन्होंने ग्राम प्रधान पर लापरवाही का आरोप लगाया और उसके खिलाफ कार्रवाई की मांग की। इस दौरान उन्होंने कहा कि तालाब की खुदाई से पहले इसके चारों तरफ बैरीकेडिंग कराई जानी चाहिए थी। लेकिन इस पर किसी ने ध्यान नहीं दिया। जिसके चलते यह हादसा हुआ है। वहीं ग्रामीणों ने भी प्रधान पर आरोप लगाते हुए कार्रवाई की मांग की है।