कोराना वैक्सीनेशन ड्राई रन के दूसरे चरण में 915 लोगों पर हुआ पूर्वाभ्यास, जिलाधिकारी ने देखा रिहर्सल

बाराबंकी. कोरोना महामारी के खिलाफ निर्णायक जंग लड़ने की तैयारी अंतिम दौर में पहुंच चुकी है। कोरोना टीकाकरण को लेकर जिले के 24 अस्पतालों में ड्राई रन का आयोजन किया गया। ड्राई रन के दूसरे चरण में जिले के कुल 24 अस्पतालों को चिन्हित किया गया था। इस दौरान 24 जगहों पर 61 सेक्शन ड्राई रन चला। सभी केन्द्रों पर 15-15 लोगों पर पूर्वाभ्यास किया गया। ड्राई रन के दौरान सभी केन्द्रो पर कुल 915 लोगों पर टीकाकरण का पूर्वाभ्यास हुआ। जिलाधिकारी डा आर्दश सिंह ने आरएसघाट सीएचसी पहुंचकर ड्राई रन के तैयारियों का जायजा लिया। इसके साथ ही सीएमओ और एसीएमओ ने कई अस्पतालों में पहुंचकर तैयारियों का हाल जाना।

जिला प्रतिक्षण अधिकारी डा राजीव सिंह ने बताया कि कोरोना वैक्सीन लगाए जाने की तारीख घोषित होने के बाद स्वास्थ्य विभाग ने भी तैयारियां तेज कर दी हैं। इसी को देखते हुए जिले के 24 अस्पतालों में ड्राई रन का आयोजन किया गया। इस दौरान सीएमओ ने प्रवीन चंद्रा नर्सिंग होम, रामनगर, आरएसघाट, दरियाबाद सीएमओ कार्यलय में बने केन्द्र सहित कुल पाँच केन्द्रों का विजिट कर टीकाकरण के पूर्वाभ्यास के तैयारी का हाल जाना।

उन्होंने बताया कि जनपद में कुल 24 स्वास्थ्य केन्द्रो पर वैक्सीन लगाने का पूर्वाभ्यास कराया गया। कोरोना वैक्सीन लगाए जाने की तारीख घोषित होने के बाद स्वास्थ्य विभाग ने भी तैयारियां तेज कर दी हैं। इसी को देखते हुए जिले के 24 अस्पतालों में ड्राई रन का आयोजन किया गया। जिन अस्पतालों में ड्राई रन किया गया, उनमें 16 सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र, जिला महिला अस्पताल, जिला पुरुष अस्पताल, सफेदाबाद स्थित हिंद अस्पताल, गदिया स्थित मेयो अस्पताल के अलावा बेलहरा और मझगवां पीएचसी पर कोरोना टीका लगाए जाने का सफल रिहर्सल हुआ।

उन्होंने बताया कि ड्राई रने के दूसरे चरण को सफल बनाने के लिए चिन्हित 24 स्वास्थ्य केन्द्रों 122 एएनएम सहित 388 कर्मचारियों की ड्यूटी लगाते हुए सभी एसीएमओ को अपने-अपने क्षेत्रों की जिम्मेदारी सौंपी गई है।। 24 जगहों पर 61 सेक्शन ड्राई रन चलाया गया।

मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ. बीकेएस चौहान ने बताया कि विशेषज्ञ चिकित्सक की देखरेख में पूर्वाभ्यास होगा। सीएचसी व अस्पताल में आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, एएनएम व स्टाफ नर्स को वैक्सीन लगाने की प्रक्रिया का पूर्वाभ्यास कराया गया। सभी जगहों पर उप मुख्य चिकित्सा अधिकारी की देखरेख में पूर्वाभ्यास कराया गया। पूर्वाभ्यास में यह भी देखा गया कि वैक्सीन लगने के बाद किसी व्यक्ति के शरीर पर क्या प्रभाव पड़ा है। सीएमओ ने बताया कि पूरी तरह सतर्कता बरती जा रही है

इससे पहले जिले के छह अस्पतालों में ड्राई रन का सफल आयोजन किया जा चुका है। स्वास्थ्य मंत्री ने भी इसका जायजा लिया था और रिहर्सल की प्रक्रिया पर संतोष जताया था। पहले चरण की सफलता से उत्साहित विभाग दूसरे चरण की सफलता को लेकर आशान्वित है। स्वास्थ्य विभाग के अनुसार ड्राई रन में ऐसे कर्मियों और चिकित्सकों की ड्यूटी लगाई गई है जो टीकाकरण में पूरी तरह से दक्ष हैं। वहीं ऐसे चिकित्सक भी लगाए गए हैं जो यदि स्थिति बिगड़े तो तत्काल उस पर नियंत्रण पा सकें।



Advertisement