‘मुसलमानों को डर क्यों लगता है’ एंकर के सवाल पर बिदक गए पूर्व उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी और इंटरव्यू छोड़ कर चले गए

भारत में मुसलमानों को डर लगता है. भारत में मुसलमान असुरक्षित हैं. भारत में मुसलमानों के साथ ये होता है. भारत में मुसलमानों के साथ वो होता है जैसी बातें आपने 2014 केबाद बहुत बार सुनी होंगी.इन्ही सब बातों के इर्द गिर्द अवार्ड वापसी जैसा अभियान भी चलाया गया था. लेकिन एक सच्चाई ये भी है की ये सारा नैरेटिव उन लोगों द्वारा गढ़ा गया जिन्होंने भारत में ही सफलता हासिल की और शोहरत की बुलंदियों पर पहुंचें. हास्यास्पद स्थिति तो तब पैदा हो जाती है जब 10 सालों तक देस्क्स्ह के उपराष्ट्रपति के पद पर रहा शख्स, उस पद से रिटायर होते ही इस तरह की बातें करने लगता है. हम बात कर रहे हैं पूर्व उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी की.

हामिद अंसारी का एक वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है. ये वीडियो जी न्यूज के साथ उनके इंटरव्यू का है. इस इंटरव्यू में वो कहते हैं कि सरकार की डिक्शनरी से सेक्युलरिज्म शब्द गायब हो चुका है. ये भी कहते हैं कि मुसलमानों में डर का माहौल है. लेकिन जब उनसे एंकर सवाल पूछता है कि क्यों उन्हें ऐसा लगता है.जबकि वो 10 साल देश के उपराष्ट्रपति रहे, AMU के वाइस चांसलर रहे, कई देशों में भारत के राजदूत रहे, अल्पसंख्यक आयोग के प्रमुख रहे देश ने आपको इतना कुछ दिया लेकिन आपने कार्यकाल के आखिरी दिन आपने कह दिया कि मुस्लिम असुरक्षित हैं, इसकी क्या वजह है?’ एंकर के इस सवाल पर अंसारी ने कहा कि उन्होंने यह बात पब्लिक पर्सेप्शन के आधार पर कही है.

बात जब सेक्युलरिज्म की चली तो एंकर ने काउंटर सवाल किया कि जब हिन्दू आ’तंकवा’द कहा जाता था, तब क्या सरकार की डिक्शनरी में सेक्युलरिज्म था, इस सवाल ने अंसारी का जायका बिगाड़ दिया. हडबडाहट और बेचैनी उनके चेहरे और हाव भाव पर साफ नज़र आने लगी. उन्होंने जवाब दिया कि उन्होंने तो इस तरह की बातें नहीं कही. एंकर ने कई बार यह सवाल पूछा कि आपको आखिर क्यों लगा कि मुस्लिम असुरक्षित है, लेकिन अंसारी इसका कोई सीधा जवाब न देकर टालने की कोशिश कर रहे थे. बार-बार ‘मुस्लिमों में असुरक्षा’ वाले बयान पर ही सवाल पूछे जाने पर वह बिदक गए. लिं’चिंग के सवाल पर भी अंसारी फंस गए. एंकर ने उन्हें बंगाल और केरल मे हिन्दुओं की लिं’चिंग को लेकर सवाल पूछा तो उन्होंने एंकर से कहा कि आपकी मानसिकता ठीक नहीं है. क्या मैंने आपको इनवाइट किया था? आप किताब का रिव्यू कीजिए…आपकी मानसिकता ठीक नहीं है. इस पर एंकर ने कहा कि मैं किताब का प्रचार करने नहीं आया बल्कि उसमे उठाये गए मुद्दों पर सवाल करने आया हूँ. एंकर के इतना कहते ही वह अचानक थैंक्स कहकर इंटरव्यू से उठ गए.