योेगी राज में तहसीलदार की दबंगई, निजी बैंक के सहायक प्रबंधक का उतरवा दिया कपड़ा

पत्रिका न्यूज नेटकर्व
आजमगढ़. तहसीलदार के खाते से डेढ़ लाख रूपये किसी ने निकाल लिया तो इससे नाराज तहसीलदार ने बैंक के सहायक प्रबंधक को कमरे में बंद कर उसके कपड़े उतरवा लिए। ठंड के इस मौसम में कर्मचारी को कई घंटेे तक बिना कपड़ों के रखा गया। बैंक कर्मी ने तहसीलदार व कर्मचारियों पर कपड़े उतरवाकर उत्पीड़न करने का आरोप लगाते हुए सरायमीर थाने में तहरीर दी है। थानाध्यक्ष का दावा है कि मामले की जांच की जा रही है। पूछताछ के लिए दोनों पक्षों को बुलाया गया है।

सरायमीर स्थित निजी बैंक के सहायक प्रबंधक विशाल राय का आरोप है कि शुक्रवार की दोपहर तहसीलदार के इशारे पर तहसील के कुछ कर्मी व सुरक्षा गार्ड बैंक पर आए थे। उन्हें बैंक से बाहर बुलाकर गाड़ी में बैठाने के बाद तहसील निजामाबाद ले गए। वहां तहसीलदार ने उन्हें एक कमरे में बंद करवा दिया और उनके कपड़े भी उतरवा लिए।

मामलेे की जानकारी होने पर विशाल के साथी बैंककर्मी भी तहसील पहुंच गए। घटना की सूचना पुलिस को दी। पुलिस पहुंची तो किसी तरह से सुलह समझौते के बाद उन्हें देर शाम उसे छुड़ाया गया। इसके बाद पीड़ित विशाल राय देर शाम सरायमीर थाने पहंुचा और तहसीलदार तथा अन्य कर्मियों के खिलाफ तहरीर दी। चुकी मामला अधिकारी से जुड़ा था इसलिए पुलिस ने एफआईआर लिखने के बजाय जांच का बहाना कर सहायक प्रबंधक को लौटा दिया।

रहा सवाल तहसीलदार निजामाबाद का तो वे इस मामले में कुछ बोेलने को तैयार नहीं है। थानाध्यक्ष सरायमीर अनिल कुमार सिंह का कहना है कि बैंक के सहायक प्रबंधक ने निजामाबाद तहसीलदार के खाते से डेढ़ लाख से अधिक रुपये निकाल लिए हैं। असिस्टेंट मैनेजर विशाल राय का कहना है कि तहसीलदार का कार्य देखने वाले व्यक्ति के कहने पर हमने पैसा ट्रांसफर किया था। बैंक में उसी व्यक्ति ने तहसीलदार का खाता खुलवाया था। वही व्यक्ति उनके खातों का लेन-देन करता है। अब फर्जी ढंग से उसका उत्पीड़न किया जा रहा है। अगर पुलिस तहसीलदार के खिलाफ कार्रवाई नहीं करती है तो वह इसकी शिकायत उच्चधिकारियों से करेगा।

BY Ran vijay singh