खिचड़ी मेलाः चार जोन में बंटी गोरखनाथ मंदिर की सुरक्षा व्यवस्था

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

गोरखपुर. गोरखनाथ मंदिर (Gorakhnath Mandir) में 15 जनवरी से शुरू हो रहा खिचड़ी मेला (Khichadi Mela) अभी से सजने लगा है। ज्यादातर दुकानें सज गई हैं और विशाल झूले व चर्खियां अभी से लोगों को लुभाने लगी हैं। गोरखनाथ मंदिर का माहौल पूरी तरह से सतरंगी हो गया है। 14 जनवरी को मकर संक्रांति के दिन गोरखनाथ मंदिर में बाबा गोरखनाथ को खिचड़ी चढ़ाई जाती है। इस बार कोरोना के मद्देनजर भीड़ को लेकर विशेष इंतजाम और सतर्कता बरती जा रही है। खिचड़ी मेले (Gorakhpur Khichadi Mela) में आने वाले श्रद्घालुओं की सुरक्षा के लिये कड़े इंतजाम किये गए हैं। गोरखनाथ मंदिर की सुरक्षा अभेद्य होगी। निगरानी और सुरक्षा की आधुनिक तकनिकी का समावेश करते हुए सुरक्षा व्यवस्था का विस्तार किया गया है। प्रशासन ने ऐसी व्यवस्था की है कि खिचड़ी मेला और मंदिर दर्शन दोनों साथ-साथ निर्बाध रूप से चलता रहे।

इसेे भी पढ़ें- गोरखपुर महोत्सव में इस साल से बर्ड वाच औरर वाइल्ड लाइफ फोटो प्रदर्शनी भी

गोरखनाथ मंदिर में लगने वाले खिचड़ी मेले की सुरक्षा के लिए एक अस्थायी थाना और सात पुलिस चौकियां बनाई गई हैं। सुरक्षा के लिहाज से मंदिर को चार जोन व 12 सेक्‍टर में बांटा गया है। भीम सरोवर में एसडीआरएफ के साथ फ्लड पीएसी भी तैनात रहेगी। खिचड़ी मेले में यह लोगों के आकर्षण का केन्द्र रहता है। 5 एएसपी, 12 सीओ, 31 निरीक्षक और 260 उप निरीक्षक 1020 सिपाही मेले की सुरक्षा में लगाए जाएंगे। 21 महिला उप निरीक्षरक और 275 महिला सिपाही भी होंगी।

इसेे भी पढ़ें- गोरखपुर सीरियल ब्लास्ट में आजमगढ़ के तारिक काजमी को आजीवन कारावास

मंदिर परिसर में आने-जाने वाले रास्‍तों के अलावा 55 और जगहों पर सीसीटीवी कैमरे लगेंगे। पुलिस के अलावा एटीएस की 28 लोगों की टीम, एक कंपनी आरएएफ व पांच कंपनी पीएसी के जवान भी तैनात किये जा रहे हैं। परिसर में सात वाच टावर और लाइट का इंतजाम और पार्किंग के लिए 10 स्थान निर्धारित किए गए हैं। 4 फायर टेंडर भी हर समय सक्रिय रूप से तैनात रहेंगे।

इसेे भी पढ़ें- पूर्वांचल पर मेहरबान योगी सरकार, ताबड़तोड़ दौरे और अरबों की सौगातें

मुख्य गेट के सामने समेत वाच टावर ऐसी जगह लगाए जा रहे हैं जहां से पूरे मेले की निगरानी आराम से की जा सकेगी। कंट्रोल रूम हर आने जाने वाले पर नजर रखेगा। वहीं से सीसीटीवी कैमरों के जरिये मानीटरिंग होती रहेगी। मेला परिसर की सुरक्षा व्यवस्था के लिए पर्याप्त संख्या में पुलिस और पीएसी के जवान तो तैनात किए ही जाएंगे।



Advertisement