पलटन हत्याकांड में छह आरोपियों को आजीवन कारावास

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
आजमगढ़. वर्ष 2007 में हुई हत्या के मुकदमे में सुनवाई पूरी करने के बाद अपर सत्र न्यायाधीश एससी/एसटी शिवचंद की अदालत ने छह आरोपियों को आजीवन कारावास तथा प्रत्येक को सत्ताइस हजार रुपये जुर्माने की सजा सुनाई है।
मुकदमें के अनुसार जीयनपुर कोतवाली क्षेत्र के रसीदाबाद गांव निवासी रामबदन पुत्र हरदेव का अपने भाई अर्जुन से आपसी बंटवारे का विवाद चल रहा था। इस विवाद के चलते रामबदन घर छोड़कर गांव में तालाब के पास मंडई डालकर बच्चों समेत रहता था।

इसी विवाद को लेकर 1 फरवरी 2007 को पंचायत भी की गई। जिसमें समस्या का समाधान नहीं हो सका। उसी रात लगभग 8 बजे अर्जुन पुत्र हरदेव, अमरजीत पुत्र अर्जुन, समरजीत पुत्र रामविलास, राम शरीफ व कैलाश पुत्रगण विंध्याचल तथा समरजीत की बुआ का लड़का प्रताप यादव पुत्र वासुदेव निवासी कम्हरिया थाना दोहरीघाट जनपद मऊ एक राय होकर रामबदन के मंडई पर पहुंच गए।

उक्त लोगों ने रामबदन पर चाकू से हमला कर दिया। शोरगुल सुनकर संवरूपुर के पलटन आ गए तो हमलावरों ने पलटन पर बरछे से हमला कर घायल कर दिया। अस्पताल ले जाते समय पलटन की मौत हो गई। इस हमले में रामबदन तथा उसके लड़के सुरेश को गंभीर चोटे आई।

पुलिस ने जांच पूरी करने के बाद सभी छह आरोपियों के विरुद्ध चार्जशीट न्यायालय में प्रेषित किया। अभियोजन पक्ष की तरफ से रामबदन, सुरेश, उमाकांत, लौटन, डॉ. केएन पांडेय, फार्मासिस्ट श्रीकांत चतुर्वेदी, एक्स रे टेक्निशियन ओम प्रकाश तथा रिटायर्ड उपनिरीक्षक लालबली ने गवाही दी। दोनों पक्षों की दलीलों को सुनने के बाद अदालत ने अर्जुन, अमरजीत, अमरजीत, रामशरीख, कैलाश तथा प्रताप यादव को आजीवन कारावास तथा प्रत्येक को सत्ताइस हजार रुपये जुर्माने की सजा सुनाई।

BY Ran vijay singh



Advertisement