ठांय-ठांय के बाद यूपी पुलिस की फिर हुई किरकिरी, इस बार मास्क है वजह

गोरखपुर. उत्तर प्रदेश की पुलिस के किस्से कभी दिल दहलाने वाले होते हैं तो कभी हास्यास्पद। कुछ साल पहले यूपी पुलिस का एक किस्सा खूब चर्चा में रहा था, जब एनकाउंटर के वक्त बंदूक जाम हो गई तो मुंह से ठांय-ठांय की आवाज निकालकर बदमाशों को डराने का प्रयास किया गया। तब इस किस्से पर लोगों ने खूब चुटकी ली थी। यूपी पुलिस पर खूब मीम्स भी बनाए गए थे। अब एक बार यूपी पुलिस का अनोखा किस्सा चर्चा में है। लेकिन इस बार वजह बंदूक नहीं बल्कि कोरोना प्रोटेक्शन के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला मास्क है।

कोरोना प्रोटोकॉल का पलान न करने पर यूपी पुलिस पर सवाल न खड़े हों, इसके लिए उन्होंने फोटोशॉप मास्क का इस्तेमाल किया। दरअसल, गोरखपुर पुलिस के एक पुलिसकर्मी ने आरोपी को पकड़कर फोंचो खिचवाई और ट्वीटर पर अपलोड कर दी। फोटो में पुलिस व अपराधी दोनों ही बिना मास्क के थे। बाद में दोबारा से उसी फोटो को मास्क के साथ ट्वीट की। लेकिन इसमें गिरफ्तार किए गए अपराधी और उसे पकड़कर खड़े पुलिसकर्मी के चेहरे पर फोटोशॉप से मास्क लगा दिया गया। इसके बाद यूजर्स ने फोटो को लेकर गोरखपुर की पुलिस को ट्रोल करना शुरू कर दिया।

ठांय-ठांय के बाद यूपी पुलिस की फिर हुई किरकिरी, इस बार मास्क है वजह

यूजर्स ने किया कमेंट

ट्विटर पर बुरी तरह ट्रोल होने के बाद पुलिस ने फोटो को डिलीट कर दिया। लेकिन तब तक कई यूजर्स ने पुलिस के इस प्रयास पर चुटकी ली। किसी ने फोटोशॉप कोर्स का प्राइस पूछा तो किसी ने इसे ठग लाइफ बताया। कुछ लोगों ने पुलिस की फोटो एडिटिंग पर भी सवाल उठाया और कहा कि इससे अच्छा तो हम लोग कर लेते हैं। एक यूजर ने तो यह सलाह भी दे दी कि पुलिस को एक बढ़िया फोटोशॉप करने वाला हायर कर लेना चाहिए।

इस मामले पर डीजीपी मुख्यालय के एक अधिकारी ने कहा कि कोरोना महामारी के दौरान किसी अभियुक्त को गिरफ्तार करने और उसे कोर्ट में पेश करने के बारे में बाकायदा एक प्रोटोकॉल जारी किया गया है। इसके उल्लंघन की शिकायत मिलने पर कार्रवाई की जाती है।

ये भी पढ़ें: सिंबल पर नहीं कोई फैसला, पंचायत चुनाव लड़ने की रणनीति तैयार, भाजपा उतारेगी प्रत्याशी: स्वतंत्र देव सिंह

ये भी पढ़ें: अनुसूचित जाति के छात्रों को लाभ की नई योजना, वित्तीय सहायता से पूरी कर सकेंगे पढ़ाई



Advertisement