यूपी की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल बोलीं, सौभाग्यशाली हैं आंगनबाड़ी कार्यकर्त्रियां, वो माताएं भी हैं शिक्षिका भी

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

वाराणसी. उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने अपने तीन दविसीय वाराणसी दौरे के दौरान बीएचयू में आंगनबाड़ी ट्रेनिंग प्रोग्राम का उद्घाटन किया। उन्होंने वहां आंगनबाड़ी कार्यकर्त्रियों को सौभाग्यशाली बताया जो मां भी हैं और टीचर भी। कहा कि वो बच्चों को जन्म भी देती हैं और राह भी दिखाती हैं। अपने दौरे के दूसरे दिन राज्यपाल ने सेवापुरी में बाल विकास एवं पुष्टाहार विभाग की ओर से आयोजित एक कार्यक्रम में आंगनबाड़ी के बच्चों के लिये नई शिक्षा नीति के तहत मानकीकृत कोर्स लांच किया था। इसी कोर्स को लागू करने के लिये बीएचयू में आंगनबाड़ी आंगनबाड़ी कार्यकर्त्रियों और सुपरवाइजरों को 4 से 6 जनवरी तक ट्रेनिंग दी जा रही है। इसके दूसरे दिन राज्याल ने ट्रेनिंग कार्यक्रम का संबोधित किया।

इसे भी पढ़ें- Vehicle Fitness Certificate: गाड़ियों के फिटनेस प्रमाण पत्र जारी करने के नियम बदले, अब करना होगा ये काम

उन्होंने कहा कि शिक्षा के क्षेत्र में अधिक महिलाओं की जरूरत है। शिक्षा में करीब 60 और आंगनबाड़ी में 100 फीसदी महिलाएं काम कर रही हैं। घर पर 3 साल तक माताएं बच्चों को संस्कार देती हैं। उन्होंने बताया कि गर्भस्थ शिशु पर माता की मनः स्थिति, वातावरण, खानपान का प्रभाव पड़ता है, इसके कई उदाहरण भी बताए। बच्चों के खान-पान और आदतों पर खास तवज्जो देने की बात कही। बीएचयू में प्रदेश की मंत्री स्वाति सिंह ने राज्यपाल का स्वागत किया।

इसे भी पढ़ें- रेलवे का बड़ा तोहफा, 31 जनवरी तक चलेगी एक और स्पेशल ट्रेन, ये है मैलानी एक्सप्रेस का शेड्यूल

टीबी ग्रसित बच्चों की मदद को आगे आएं उद्यमी

राज्यपाल ने साड़ी इंडस्ट्रीज और माइक्रो स्माॅल एंड मीडियम इंटरप्राइजेज (एमएसएमई) के उद्यमियों से टीबी ग्रसित बच्चों और आंगनबाड़ी केन्द्रों को गोद लेकर समाज का सहयोग करने की अपील की है। कोरोना काल में लोगों के स्वयं आगे आकर मदद करने का जिक्र करते हुए कहा कि पूरे विश्व ने इसे देखा। पूरी दुनिया में हम इसमें सबसे आगे हैं। सर्किट हाउस में उद्यमियों के साथ बातचीत के दौरान उन्होंने कहा कि सरकार अपने स्तर पर हर क्षेत्रों में बहुत बड़े पैमाने पर लोगों के जीवन स्तर को सुधारने एवं सामाजिक कार्य कर रही है। लेकिन इस कार्य में समाज के उद्यमियों एवं प्रबुद्ध जनों को भी बढ़ चढ़कर आगे आकर अपने सामाजिक दायित्व का निर्वहन करना होगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारत को 2025 तक पूरी तरह टीबी मुक्त करने का संकल्प लिया है। चिकित्सा व्यवस्था और लोगों के सहयोग से 2025 तक भारत वास्तव रूप में टीबी मुक्त हो जाएगा।

इसे भी पढ़ें- घर बनाने वालों के लिये बड़ी खबर, सरिया और सीमेंट समेत इन बिल्डिंग मटेरियल्स के दाम में हुई बढ़ोत्तरी

मां संस्कारी और सुशील होगी तो बच्चे भी वैसे होंगे

उत्तर प्रदेश के लघु एवं सूक्ष्म उद्योग राज्यमंत्री चौधरी उदयभान सिंह ने भी उद्यमियों से टीवी ग्रसित बच्चों एवं आंगनवाड़ी केंद्रों को गोद लेकर अपने सामाजिक दायित्वों का निर्वहन किए जाने पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि मां संस्कारी व सुशील होगी तो बच्चे भी वैसे ही होंगे, तो देश भी सशक्त होगा। उन्होंने उद्यमियों का आह्वान करते हुए कहा कि समाज एवं सृष्टि के लिए जीना होगा।



Advertisement