मां ने जलती चिता से निकाल लिया बेटे का शव, जानिये फिर क्या हुआ

मेरठ. जलती चिता से एक मां द्वारा बेटे का शव निकालने का मामला सामने आया है। बताया जा रहा है कि बेटे की ससुराल में संदिग्ध परिस्थिति में मौत हो गई थी। आनन-फानन में ससुराल वाले क्रियाकर्म में जुटे थे। शव को चिता पर रख मुखाग्नि दी गई थी कि सूचना मिलते ही हापुड़ से मां पहुंच गई और उसने जलती चिता के बीच से बेटे का शव निकाल लिया। इसी बीच दोनों पक्षों जमकर कहासुनी भी हुई। सूचना मिलते ही पुलिस ने शव को कब्जे में लेते हुए पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।

यह भी पढ़ें- रिश्ते फिर शर्मसार: मामी पर लगा भांजी का रेप कराने का आराेप, पुलिस कर रही है तलाश

दरअसल, घटना मेरठ के थाना भावनपुर क्षेत्र के गांव पचगांव अमर सिंह पट्टी की है। जहां हापुड़ निवासी एक युवक की ससुराल में संदिग्ध हालात में मौत हो गई थी। सूचना पर पहुंची युवक की मां व परिजनों ने जलती चिता से बेटे का शव निकालकर पुलिस को सूचना दी। पुलिस के अनुसार, हापुड़ के गांव नंगलाबढ़ निवासी पुष्पेंद्र मजदूरी का काम करता था। उसकी शादी जून 2012 में रीना निवासी गांव पचगांव पट्टी अमर सिंह से हुई थी। उनके तीन बच्चे हैं। पुष्पेंद्र दो माह से ससुराल में रह रहा था। बताया जाता है कि काफी दिनों से पुष्पेंद्र बीमार था। शाम को पुष्पेंद्र के साले राहुल की सूचना पर पुष्पेंद्र के परिजन हापुड़ से गांव पहुंचे तो पुष्पेंद्र की मौत हो चुकी थी, जिसके बाद दोनों पक्षों में झड़प शुरू हो गई। इसी बीच गांव के लोग पुष्पेंद्र के शव को चारपाई पर लेकर गांव के ही श्मशान घाट पहुंच गए। जहां पहले से चिता तैयार थी, वहां जाते ही शव को चिता पर रखकर आग के हवाले कर दिया गया।

इस बीच पता चलने पर पुष्पेंद्र की मां बीना परिजनों के साथ श्मशान घाट पहुंची और शव को जलती चिता से खींचकर बाहर निकाला। इस दौरान महिला का हाथ मामूली रूप से झुलस गया। मां बीना ने बताया कि पुष्पेंद्र के गले पर निशान था। वहीं, पिता कंवर पाल ने बताया कि चार साल पहले पुष्पेंद्र के साले ने बेटे से शादी के लिए एक लाख रुपये उधार लिए थे। इसी को लेकर विवाद में बेटे की हत्या कर शव जलाने का प्रयास किया गया है। भावनपुर इंस्पेक्टर रघुराज सिंह के अनुसार, रीना ने पूछताछ में बताया कि बीमारी से तंग आकर उसके पति ने फांसी लगा ली थी।

यह भी पढ़ें- Crime in up बुलंदशहर जिला पंचायत से मांगी गई 60 लाख रुपये की रंगदारी, पैसा नहीं देने पर जान से मारने की धमकी