मुरादनगर घटना से बेहद नाराज सीएम योगी का दो टूक, आदेश न मानने वाले अफसरों की शासन में जगह नहीं

लखनऊ. गाजियाबाद के मुरादनगर श्मशान घाट छत प्रकरण को लेकर सीएम योगी आदित्यनाथ बेहद नाराज हैं। इस प्रकरण में 25 लोगों की मौत हो गई है। इसके लिए सीएम योगी आदित्यनाथ मेरठ कमिश्नर अनीता सी. मेश्राम व गाजियाबाद के डीएम अजय शंकर पांडेय से स्पष्टीकरण तलब किया है। कमिश्नर, डीएम और कई अफसरों पर कड़ी कार्रवाई हो सकती है।

224 रिटायर्ड ब्यूरोक्रेट्स ने CM योगी को फिर लिखा पत्र, लव जिहाद कानून को लेकर कही बहुत बड़ी बात

मुरादनगर श्मशान घाट छत प्रकरण पर मुख्यमंत्री योगी ने सोमवार को हुई वरिष्ठ अफसरों की बैठक में जमकर बरसे और कहाकि यह घटना अफसरों की गंभीर लापरवाही है। इस तरह की लापरवाही अक्षम्य है। ऐसे अफसरों के खिलाफ कठोरतम कार्रवाई की जाएगी। मुख्यमंत्री योगी ने अफसरों को याद दिलाते हुए कहाकि, हर मंडलीय समीक्षा बैठक में अफसरों को साफतौर पर कहा गया है कि जिलों में हो रहे 50 लाख रुपए से अधिक लागत के निर्माण कार्यों की गुणवत्ता की जांच टास्क फोर्स गठित कर हर हाल में करवाएं। पर आदेश को नजर अदांज किया गया है। जिसका परिणाम मुरादनगर की घटना है।

मुरादनगर घटना से साफ लगता है कि कई वरिष्ठ अधिकारी मुख्यमंत्री योगी के निर्देशों को नजरंदाज करने की हिमाकत कर रहे हैं। ऐसे अधिकारियों के लिए मुख्यमंत्री का दो टूक संदेश सामने आया है। मुख्यमंत्री ने चेतावनी के लहजे में यहां तक कहाकि, इस तरह की घटनाओं के लिए जिम्मेदार अफसरों के लिए शासन में कोई जगह नहीं है।



Advertisement